PPP कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर बिलावल ने इमरान की आलोचना, कहा- 30 की रैली होकर रहेगी

बिलावल अली भुट्टो ने इमरान खान की आलोचना की। (एएनआइ)

पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी को लेकर इमरान सरकार की आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि नवंबर को पीडीएम की रैली होकर रहेगी। किला कोहना कासिम बाग स्टेडियम को सील कर दिया गया है जहां यह रैली होनी है।

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 08:01 AM (IST) Author: Tanisk

इस्लामाबाद, एएनआइ। मुल्तान में पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के कई कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी के लिए बिलावल अली भुट्टो ने प्रधानमंत्री इमरान खान की आलोचना की है। उन्होंने शुक्रवार को साफ कहा कि पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) की 30 नवंबर को होने वाली रैली होकर रहेगी।

भुट्टो पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी के पुत्र कासिम गिलानी द्वारा साझा किए गए एक वीडियो पर प्रतिक्रिया व्यक्त कर रहे थे। इसमें दिखाया गया है कि पीपीपी कार्यकर्ताओं को पुलिस वैन में ले जाया जा रहा है। मालूम हो कि पुलिस ने शुक्रवार को किला कोहना कासिम बाग स्टेडियम को सील कर दिया जहां पीडीएम की उक्त रैली होनी है।

बिलावल कोरोना से संक्रमित, रैली को वर्चुअली संबोधित 

बिलावल कोरोना वायरस से संक्रमित हो गए हैं और इसके चलते वह इस रैली में वर्चुअली शामिल होंगे। वह वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से रैली को संबोधित करेंगे। उनकी बहन असीफा भुट्टो-जरदारी पीपीपी के स्थापना दिवस के अवसर पर सार्वजनिक सभा को संबोधित करेंगी। 

पीपीपी के कई कार्यकर्ताओं को गिरफ्तार किया गया

इससे पहले भी पीपीपी के कई कार्यकर्ताओं को इमरान खान की अगुवाई वाली सरकार ने गिरफ्तार किया था, ताकि विपक्षी दलों को पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) की रैली आयोजित करने से रोका जा सके। कोरोना वायरस महामारी के कारण बड़ी सार्वजनिक सभाओं पर प्रांतव्यापी प्रतिबंध के बावजूद सार्वजनिक रैली आयोजित करने के लिए बुधवार को कासिम गिलानी के भाई सैयद मूसा अली गिलानी को पीडीएम कार्यकर्ताओं और अन्य पार्टी के नेताओं के साथ गिरफ्तार किया गया था। जियो न्यूज की रिपोर्ट में गुरुवार को उन्हें जमानत दे दी गई।

पाक मंत्री ने दी एफआइआर की धमकी 

पाकिस्तान की संघीय सरकार के सूचना मंत्री शिबली फराज ने धमकी दी है यदि विपक्षी दलों के संगठन पीडीएम ने किसी भी रैली में भाग लिया तो उनके खिलाफ एफआइआर की जाएगी। इधर, सरकार की कोरोना को लेकर बुलाई गई बैठक का सभी विपक्षी दलों ने बहिष्कार कर दिया।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.