कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्‍तान बेचने जा रहा अर्जेंटीना को 12 लड़ाकू विमान

कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्तान अब लड़ाकू जेट बेचने वाला है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अर्जेंटीना पाकिस्तान से 12 जेएफ-17ए ब्लॉक-3 लड़ाकू विमान खरीदने की योजना बना रहा है। समाचार रिपोर्ट में कहा गया है कि बजट देश की संसद में पेश किया गया है।

Arun Kumar SinghSun, 19 Sep 2021 05:39 PM (IST)
कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्तान अब लड़ाकू जेट बेचने वाला है।

 नई दिल्‍ली, आइएएनएस। कर्ज के बोझ से दबा पाकिस्तान अब लड़ाकू जेट बेचने वाला है। मीडिया रिपोर्ट की मानें तो अर्जेंटीना पाकिस्तान से 12 जेएफ-17ए ब्लॉक-3 लड़ाकू विमान खरीदने की योजना बना रहा है। पाकिस्‍तान के जियो टीवी की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अर्जेंटीना ने आधिकारिक तौर पर 2022 के मसौदा बजट में पाकिस्तान से 12 पीएसी जेएफ-17 ए ब्लॉक 3 लड़ाकू विमानों की खरीद के लिए 66.4 करोड़ डॉलर की धनराशि शामिल की है।

अर्जेंटीना ने अभी तक बिक्री समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए

समाचार रिपोर्ट में कहा गया है कि बजट देश की संसद में पेश किया गया है। हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि सौदे को अंतिम रूप दे दिया गया है क्योंकि अर्जेंटीना ने अभी तक बिक्री समझौते पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं, लेकिन यह पाकिस्तान से लड़ाकू विमान खरीदने की देश की मंशा को दर्शाता है। अर्जेंटीना ने पिछले कुछ वर्षों में दुनिया के कुछ अन्य देशों से जेट खरीदने की कोशिश की थी, लेकिन धन की कमी या ब्रिटिश आपत्तियों के कारण हमेशा संभव नहीं हो सका।

कई भूमिकाओं के लिए इस्‍तेमाल किया जाने वाला लड़ाकू विमान है जेएफ- 17

हाल ही में पिछले साल ब्रिटेन ने अर्जेंटीना को दक्षिण कोरियाई लड़ाकू विमानों की बिक्री पर रोक लगा दी थी। अर्जेंटीना के रक्षा मंत्री ने ट्विटर पर 'माल्विनास अर्जेंटीनास' पोस्ट करने से पहले इस कदम को ब्रिटिश इम्पीरियल प्राइड के रूप में वर्णित किया। यूके डिफेंस जर्नल के अनुसार, जेएफ- 17 थंडर पाकिस्तान एयरोनॉटिकल कॉम्प्लेक्स और चीन के चेंगदू एयरक्राफ्ट कॉरपोरेशन द्वारा संयुक्त रूप से विकसित एकल इंजन वाला कई भूमिकाओं के लिए इस्‍तेमाल किया जाने वाला लड़ाकू विमान है।

बिल्डरों का कहना है कि जेएफ-17 को इंटरसेप्शन, ग्राउंड अटैक, एंटी-शिप और हवाई टोही सहित कई भूमिकाओं के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जेएफ-17 एयरफ्रेम के आधे से अधिक, जिसमें इसके फ्रंट फ्यूजलेज, विंग्स और वर्टिकल स्टेबलाइजर शामिल हैं, का उत्पादन पाकिस्तान में होता है, वहीं चीन में 42 फीसदी का उत्पादन होता है। लड़ाकू विमान की आखिरी असेंबली पाकिस्तान में होती है।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.