चीन से मुकाबले को लंबी दूरी तक सटीक वार करने वाले हथियारों की जरूरत, रक्षा खर्च में इजाफा प्रस्तावित: ताइवान

संसद में बोलते हुए चीउ ने कहा कि ताइवान को चीन को यह बताने में सक्षम होना चाहिए कि वे अपना बचाव कर सकता है। उन्होंने ताइवान की मिसाइल क्षमता का जिक्र करते हुए कहा उपकरणों को लंबी दूरी तक सटीक वार करने वाला होना चाहिए।

Nitin AroraMon, 27 Sep 2021 11:39 AM (IST)
चीन से मुकाबले को लंबी दूरी तक सटीक वार करने वाले हथियारों की जरूरत, रक्षा खर्च में इजाफा प्रस्तावित: ताइवान

ताइपे, रायटर। रक्षा मंत्री चिउ कुओ-चेंग ने सोमवार को कहा कि ताइवान को लंबी दूरी के, सटीक हथियार रखने की जरूरत है ताकि चीन को ठीक ढंग से रोका जा सके जो द्वीप पर हमला करने के लिए तेजी से अपनी प्रणाली विकसित कर रहा है। ताइवान ने इस महीने नई मिसाइलों सहित अगले पांच वर्षों में लगभग 9 बिलियन डॉलर के अतिरिक्त रक्षा खर्च का प्रस्ताव दिया है। बताया गया कि इसका कारण पड़ोसी चीन से गंभीर खतरे के सामने हथियारों को अपग्रेड करने की तत्काल आवश्यकता है। बता दें कि चीन, ताइवान के क्षेत्र पर अपना दावा करता है।

संसद में बोलते हुए, चीउ ने कहा कि ताइवान को चीन को यह बताने में सक्षम होना चाहिए कि वे अपना बचाव कर सकता है। उन्होंने ताइवान की मिसाइल क्षमता का जिक्र करते हुए कहा, 'उपकरणों को लंबी दूरी तक सटीक वार करने वाला होना चाहिए, ताकि दुश्मन यह समझ सकें कि जैसे ही वे अपने सैनिकों को भेजते हैं, हम तैयार हैं।'

चीउ की उपस्थिति में संसद को एक लिखित रिपोर्ट में, मंत्रालय ने कहा कि ताइवान के दक्षिण-पूर्वी तट पर एक प्रमुख परीक्षण सुविधा में मध्यम और लंबी दूरी की मिसाइलों का उपयोग अवरोधन अभ्यास में किया जा रहा था।

चीउ ने पत्रकारों को यह ब्योरा देने से इनकार कर दिया कि ताइवान की मिसाइलें कितनी दूरी तक वार कर सकती हैं। बता दें कि सरकार द्वारा ऐसी सब जानकारी अक्सर गुप्त रखी जाती है।

ताइवान ने चीन की सेना पर अपनी वार्षिक रिपोर्ट में चीन की क्षमताओं के असामान्य रूप से कठोर मूल्यांकन की पेशकश करते हुए कहा कि वे ताइवान के बचाव को कमजोर कर सकते हैं और हमारी तैनाती की पूरी तरह से निगरानी करने में सक्षम हैं।

चिउ ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि ताइवान के लोग अपने सामने आने वाले खतरे से अवगत हों। यह पूछे जाने पर कि युद्ध की स्थिति में चीन पहले कहां हमला करेगा, चीउ ने जवाब दिया कि यह ताइवान की कमान और संचार क्षमता होगी। उन्होंने कहा, 'इस पर चीनी कम्युनिस्टों की क्षमता तेजी से बढ़ी है। वे हमारे आदेश, नियंत्रण, संचार और खुफिया प्रणालियों को बाधित कर सकते हैं, उदाहरण के लिए निश्चित रडार स्टेशनों पर निश्चित रूप से पहले हमला किया जा रहा है।'

उन्होंने कहा, हमें चोरी-छिपे और स्थिति बदलने में सक्षम होना चाहिए। बता दें कि ताइवान ने काफी समय अपने नजदीक चीनी सैन्य गतिविधि की बार-बार शिकायत की है, विशेष रूप से वायु सेना के जेट विमानों के ताइवान के वायु रक्षा क्षेत्र में प्रवेश करने की।

चीन लोकतांत्रिक रूप से शासित द्वीप को चीनी संप्रभुता स्वीकार करने के लिए मजबूर करने के प्रयासों में तेजी ला रहा है। अधिकांश ताइवानियों ने निरंकुश बीजिंग द्वारा शासित होने पर ऐतराज जताया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.