शोधकर्ताओं का दावा- टेंशन भगाने के लिए खूब खाएं फल व सब्जियां

तनाव कम करना चाहते हैं तो खूब खाएं फल और सब्जियां

ऑस्ट्रेलिया (Australia) की एडिथ कोवान यूनिवर्सिटी ( Edith Cowan University ECU) के शोधकर्ताओं की ओर से किए गए इस अध्ययन को क्लीनिकल नूट्रिशन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। यह अध्ययन 25 से 91 वर्ष के 8600 से अधिक ऑस्ट्रेलियाई लोगों पर किया गया।

Monika MinalFri, 14 May 2021 03:52 PM (IST)

मेलबर्न, एएनआइ। अगर तनाव की समस्या से जूझ रहे हैं तो इससे निजात पाने के लिए फलों और सब्जियों का खूब सेवन करना शुरू कर दीजिए। एक नए अध्ययन का दावा है कि फलों और सब्जियों से भरपूर आहार खाने से तनाव कम हो सकता है। अध्ययन का यह नतीजा ऐसे समय में सामने आया है, जब कोरोना महामारी के चलते लोगों में तनाव की समस्या बढ़ रही है।

ऑस्ट्रेलिया (Australia) की एडिथ कोवान यूनिवर्सिटी ( Edith Cowan University, ECU) के शोधकर्ताओं की ओर से किए गए इस अध्ययन को क्लीनिकल नूट्रिशन पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। यह अध्ययन 25 से 91 वर्ष के 8,600 से अधिक ऑस्ट्रेलियाई लोगों पर किया गया। इसमें फलों व सब्जियों के सेवन और तनाव के स्तरों के बीच जुड़ाव को परखा गया। 

ECU की शोधकर्ता सिमोन राडावेली-बगातिनी (Ms Radavelli-Bagatini) ने बताया, 'यह अध्ययन फलों-सब्जियों से भरपूर आहार और अच्छी मानसिक सेहत के बीच जुड़ाव की पुष्टि करता है। हमने निम्न मात्रा में फलों और सब्जियों का सेवन करने वाले लोगों के मुकाबले उन व्यक्तियों में तनाव का स्तर कम पाया जो उच्च मात्रा में इस तरह के आहार का सेवन करने हैं। इससे जाहिर होता है कि अच्छी मानसिक सेहत में इस तरह के आहार की अहम भूमिका होती है।' उन्होंने कहा कि फलों और सब्जियों में विटामिन और मिनिरल जैसे पौष्टिक तत्व भरपूर मात्रा में होते हैं। ये इंफ्लेमेशन और आक्सीडेटिव स्ट्रेस को कम कर सकते हैं। शोधकर्ताओं के मुताबिक, दुनिया में मानसिक समस्या तेजी से बढ़ रही है।

रिसर्च के निष्कर्षों से पता चलता है कि जो लोग हर दिन कम से कम 470 ग्राम फलों व सब्जियों का सेवन करते हैं उनका तनाव दस फीसद कम हो जाता है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization, WHO) ने सुझाव दिया कि हर दिन कम से कम 400 ग्राम फलों व सब्जियों का सेवन करना चाहिए।

दुनिया भर में हर दसवां व्यक्ति किसी मानसिक विकार से पीड़ित है। इन दिनों ऑस्ट्रेलिया समेत पूरी दुनिया में मानसिक स्वास्थ्य की समस्या बढ़ती जा रही है। करीब दो में से एक ऑस्ट्रेलियाई मानसिक समस्या का सामना करते हैं। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.