जानें हाल के वर्षों में फ्रांस में कब-कब हुए चरमपंथी हमले, लंबा रहा है इतिहास

फ्रांस के नीस शहर में गुरुवार को एक चरमपंथी हमला हुआ था।
Publish Date:Fri, 30 Oct 2020 01:41 PM (IST) Author: Shashank Pandey

पेरिस, एपी। फ्रांस के नीस शहर में गुरुवार को एक आतंकी हमला हुआ। दक्षिण फ्रांस के नीस शहर में कुछ लोगों पर चाकू से हमला किया गया। जिसमें तीन लोगों की मौत हो गई और कई अन्य जख्मी हो गए। मृत तीन लोगों में एक महिला भी है, जिसका आइएसआइएस की तरह चाकू से सिर कलम किया गया। यह हमला चर्च के बाहर किया गया। इस चरमपंथी हमले की भारत समेत कई देशों ने निंदा की। भारत के पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि वह फ्रांस के साथ है। फ्रांस के नीस में हुआ चरमपंथी हमला हाल के वर्षों में फ्रांस में इस्लामी चरमपंथी हिंसा का एक हिस्सा रहा है। ऐसे हमलों का फ्रांस में लंबा इतिहास रहा है। आइए ऐसे ही हमलों में से कुछ पर एक नज़र डालते हैं।

16 अक्टूबर, 2020

इतिहास के एक शिक्षक सैमुएल पैटी पेरिस के उपनगरों में रहने वाले एक शख्स थे। उसने पहले अभिव्यक्ति की आजादी पर एक वर्ग में पैगंबर मुहम्मद के कार्टून दिखाए थे। इसको लेकर एक हमलावर ने उन पर हमला किया। जिसके बाद हमलावर शरणार्थी अब्दुल्लाख अंजोरोव की पुलिस ने गोली मारकर हत्या कर दी थी।

25 सितंबर, 2020

पेरिस में फ्रांसीसी व्यंग्य पत्रिका चार्ली हेब्दो के पूर्व मुख्यालय के बाहर छुरा घोंपे जाने से दो लोग घायल हो गए। इस मामले में एक पाकिस्तानी व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया और उस पर आतंकवाद के आरोप लगाए गए।

मार्च, 2018

दक्षिणी फ्रांस में एक फ्रांसीसी-मोरक्को नागरिक ने पुलिस पर खुलेआम गोलियां चलाईं और एक सुपरमार्केट में लोगों को बंधक बना लिया। बाद में पुलिस द्वारा इस घटना में उसे गोली मार दी गई। 

1 जून, 2017

एक अल्जीरियाई व्यक्ति ने नोट्रे डेम कैथेड्रल के सामने गश्त कर रहे पुलिस अधिकारियों पर हथौड़े से हमला किया। बाद में उसने आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट से जुड़ने की बात कबूल की।

20 अप्रैल, 2017

एक बंदूकधारी व्यक्ति ने इस्लामिक स्टेट समूह द्वारा किए गए हमले में पेरिस के चैंप्स-एलिसीज़ पर एक पुलिस अधिकारी को गोली मार दी, जिससे उसकी मौत हो गई।

18 मार्च, 2017

एक व्यक्ति ने एक पुलिस अधिकारी को गोलियों से भरी रिवॉल्वर से घायल कर दिया, फिर एक रिवाल्वर और चिल्लाते हुए पेरिस के ओरली एयरपोर्ट पर सैनिकों पर हमला किया और चिल्लाया कि वह मारना चाहता है और फिर अल्लाह के लिए मर जाना चाहता है।

फरवरी 3, 2017

मिस्र के एक शख्स ने "अल्लाहु अकबर!" चिल्लाते हुए पेरिस में लौवर संग्रहालय की रक्षा करने वाले फ्रांसीसी सैनिकों पर हमला, उनमें से एक सैनिक को उसने थोड़ा घायल कर दिया।

26 जुलाई, 2016

85 वर्षीय एक पुजारी फादर जैक्स हेमेल की रयान में 19 वर्षीय दो इस्लामी चरमपंथियों द्वारा हत्या कर दी गई, उसने पादरी का गला काट दिया, जिससे उनकी मौत हो गई।

14 जुलाई, 2016

एक व्यक्ति ने नीस में बैस्टिल डे के एक ट्रक को ड्राइव किया, इस हादसे में 86 मारे गए। इस्लामिक स्टेट ने इसकी जिम्मेदारी ली।  

13 नवंबर, 2015

इस्लामिक स्टेट से जुड़े चरमपंथियों ने बाटाकलन कॉन्सर्ट हॉल, फ्रांस के राष्ट्रीय खेल स्टेडियम और पेरिस के अन्य स्थलों पर हमला किया, जिसमें 130 लोग मारे गए।

7-9 जनवरी, 2015

व्यंग्य पत्रिका चार्ली हेब्दो के पेरिस कार्यालयों और कोसर किराना में 17 लोगों की मौत हो गई। अरब प्रायद्वीप में आतंकी संगठन अल-कायदा ने चार्ली हेब्दो में पैगंबर मुहम्मद के चित्र का बदला लेने के लिए इस हमले की जिम्मेदारी ली।

मार्च, 2012

अल-कायदा के लिंक का दावा करने वाला एक बंदूकधारी दक्षिणी फ्रांस के टूलूज़ में तीन यहूदी स्कूली बच्चों, एक रब्बी और तीन पैराट्रूपर्स को मौत के घाट उतार दिया ।

2 नवंबर, 2011

पेरिस में चार्ली हेब्दो के कार्यालय व्यंग्य पत्रिका द्वारा पैगंबर मुहम्मद के एक कैरिकेचर की विशेषता वाले कवर के बाद फायरबॉम्ब किए गए हैं। कोई घायल नहीं हुआ।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.