फिरौती मिलने के बावजूद अफगानिस्तान में अगवा मनोचिकित्सक की हत्या

देश में मनोरोगियों के इलाज के लिए पहला निजी अस्पताल खोलने वाले अलेमी का सितंबर में मजार-ए-शरीफ शहर से हथियारों से लैस एक शख्स ने अपहरण कर लिया था। 3.50 लाख डालर की फिरौती मिलने के बावजूद अपहरणकर्ताओं ने देश के जाने-माने मनोचिकित्सक नादेर अलेमी की हत्या कर दी।

Monika MinalPublish:Sat, 20 Nov 2021 02:38 AM (IST) Updated:Sat, 20 Nov 2021 07:27 AM (IST)
फिरौती मिलने के बावजूद अफगानिस्तान में अगवा मनोचिकित्सक की हत्या
फिरौती मिलने के बावजूद अफगानिस्तान में अगवा मनोचिकित्सक की हत्या

नई दिल्ली, आइएएनएस।  अफगानिस्तान (Afghanistan)  में 3.50 लाख डालर (2.6 करोड़ रुपये से अधिक) की फिरौती (Ransom) मिलने के बावजूद अपहरणकर्ताओं (Kidnappers) ने देश के जाने-माने मनोचिकित्सक (Psychitrist) नादेर अलेमी (Nader Alemi) की हत्या कर दी।

सितंबर में हुआ था अपहरण

देश में मनोरोगियों के इलाज के लिए पहला निजी अस्पताल खोलने वाले अलेमी का सितंबर में मजार-ए-शरीफ शहर से हथियारों से लैस एक शख्स ने अपहरण कर लिया था। अलेमी की बेटी मनिजेह आबरीन ने कहा, हत्या से पहले मेरे पिता को यातनाएं दी गईं। एक दिन पहले ही हमने फिरौती की रकम दी थी और अब हमें उनका शव मिला है।

शव पर थे यातनाओं के निशान- बेटी

आबरीन ने कहा, अपहरणकर्ताओं ने आठ लाख डालर की फिरौती मांगी थी। इतनी बड़ी रकम हम नहीं चुका सकते थे। मेरे पिता बुजुर्ग थे और उन्हें डायबिटीज की समस्या थी। पिता के शव पर यातनाओं के निशान साफ देखे जा सकते हैं। अलेमी मजार-ए-शरीफ में एक प्रमुख व्यक्ति थे, उन्होंने अपना अस्पताल खोला है। रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें उत्तरी अफगानिस्तान में एकमात्र पश्तो भाषी मनोचिकित्सक माना जाता था और उनके रोगियों में तालिबान लड़ाके भी शामिल थे।

Alemi was abducted on September 20 near his home in the मजार ए शरीफ के नवाबाद एरिया में अपने घर के पास से ही अलेमी का अपहरण 20 सितंबर को हो गया था। सूत्रों ने बताया कि एक गाड़ी में करीब सात लोग थे जिन्होंने अलेमी को उठा लिया और गायब हो गए। अपहरणकर्ताओं की कार में तालिबान का सफेद रंग का एक झंडा भी लहरा रहा था। इन लोगों ने अलेमी से साथ्ज्ञ चलकर डिस्ट्रिक्ट कमांडर की बीमारी का इलाज करने को कहा था। मानसिक बीमारियों के लिए अलेमी ने 40 सालों तक काम किया।

इस साल अगस्त माह में तालिबान के काबिज होने के बाद से देश में हर दिन दर्जनों हत्याएं हो रही हैं। दो दिन पहले ही एक डेंटिस्ट का अपहरण कुंदुज शहर से किया गया।