अफगानिस्तान: फ्रांस ने 300 से अधिक लोगों को काबुल से निकाला, कतर ने की सहायता

अगस्त में तालिबान ने अफगानिस्तान की सत्ता को पूरी तरह हथिया लिया। जिसके बाद वहां की लोकतांत्रिक सरकार खत्म हो गई। तालिबान के आते ही देशभर के हालात खराब हो गए। लोगों ने वहां से निकल जाने में ही भलाई समझी और काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी।

Monika MinalSat, 04 Dec 2021 07:16 AM (IST)
अफगानिस्तान से निकासी जारी, फ्रांस ने 300 से अधिक लोगों को निकाला

पेरिस, रायटर्स। फ्रांस (France) की ओर से अफगानिस्तान (Afghanistan) में निकासी अभियान जारी है। इस क्रम में 258 अफगान, 11 फ्रांस, 60 डच के साथ कई अन्य लोगों को काबुल से निकाल पेरिस लाया गया। यह जानकारी फ्रांस के विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने शुक्रवार को दी।

निकासी अभियान में फ्रांस को कतर से मिली मदद

फ्रांस के इस निकासी अभियान में कतर (Qatar) ने मदद की थी। मिली जानकारी के अनुसार, निकाले गए लोगों में वैसे अफगानिस्तानी नागरिक हैं जो वहां खतरे में थे जैसे पत्रकार, फ्रांस के लोग और वैसे लोग जिन्हें फ्रांस की आर्मी ने अपने साथ काम करने के लिए नियुक्त किया था। 10 सितंबर से 110 फ्रांसीसी और 396 अफगानिस्तानी नागरिकों को अफगानिस्तान से निकाल पेरिस लगाया गया है। इसके लिए कतर की सहायता से 10 उड़ानें काबुल भेजी जा सकीं। गुरुवार को फ्रांस और कतर ने मिलकर मानवीय मिशन की शुरुआत की। इसके तहत कतर के मिलिट्री प्लेन के जरिए मेडिकल उपकरणों, खाने का सामान, ठंड से निपटने के लिए कपड़े व आवश्यक  सामान वहां काम कर रही अंतरराष्ट्रीय संस्था को दी गई। 

अगस्त में अफगान पर काबिज हुआ तालिबान 

अगस्त में तालिबान ने अफगानिस्तान की सत्ता को पूरी तरह हथिया लिया और सितंबर में अपनी अंतरिम सरकार का गठन कर लिया। वहां की लोकतांत्रिक सरकार खत्म हो गई। तालिबानी सत्ता के आते ही देशभर के हालात खराब हो गए। लोगों ने वहां से निकल जाने में ही भलाई समझी और काबुल एयरपोर्ट पर भारी भीड़ उमड़ पड़ी। उस वक्त अमेरिका के विमान हो या कहीं और का बस लोग उसपर सवार हो अफगानिस्तान से पीछा छुड़ाना चाहते थे।  

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.