पंजशीर में पाकिस्तान के दखल को लेकर यूरोपीय संसद में प्रस्ताव पास

यूरोपीय संसद की तरफ से जारी रिलीज के मुताबिक प्रस्ताव में कहा गया है कि पाकिस्तान अपनी स्पेशल फोर्स के साथ ही तालिबान को हवाई सपोर्ट भी दे रहा है। पिछले कई सालों से पाकिस्तान अपने यहां तालिबान के लड़ाकों को सुरक्षित पनाह भी देता रहा है।

Monika MinalThu, 16 Sep 2021 01:32 AM (IST)
पंजशीर में पाकिस्तान के दखल को लेकर यूरोपीय संसद में प्रस्ताव पास

ब्रसेल्स, एएनआइ। यूरोपीय संसद (European Parliament) ने एक प्रस्ताव (Resolution) पारित कर पाकिस्तान (Pakistan) पर अफगानिस्तान (Afghanistan) के पंजशीर (Panjshir) प्रांत में नेशनल रेजिस्टेंस फ्रंट (NRF) के खिलाफ लड़ाई में तालिबान का साथ देने का आरोप लगाया है। पंजशीर प्रांत पर कब्जे की कोशिशों में जुटे तालिबान को अहमद मसूद (Ahmad Massoud) के नेतृत्व में NRF से कड़ी टक्कर मिल रही है।

तालिबान को हवाई सपोर्ट दे रहा पाकिस्तान- यूरोपीय संसद

यूरोपीय संसद की तरफ से जारी रिलीज के मुताबिक प्रस्ताव में कहा गया है कि पाकिस्तान अपनी स्पेशल फोर्स के साथ ही तालिबान को हवाई सपोर्ट भी दे रहा है। पिछले कई सालों से पाकिस्तान अपने यहां तालिबान के लड़ाकों को सुरक्षित पनाह भी देता रहा है।

पंजशीर में नरंसहार कराने को लेकर आरोपों से घरा पाकिस्तान

अफगानिस्‍तान में अपनी भूमिका को लेकर पाकिस्‍तान और उसकी सेना दुनियाभर में विवादों में है। अफगानिस्‍तान में पिछले दिनों हजारों की तादाद में महिलाओं ने पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई के हस्‍तक्षेप का जोरदार विरोध किया था। यही नहीं पाकिस्‍तान अब पंजशीर में तालिबान के साथ मिलकर नरसंहार के आरोपों से बुरी तरह से घिरा हुआ है।

ईरान से पहला यात्री विमान काबुल पहुंचा

तालिबान के कब्जे के बाद ईरान से पहला यात्री विमान बुधवार को काबुल पहुंचा। इसमें ईरान से 14 यात्री काबुल पहुंचे। सोमवार को तालिबान ने कहा था कि काबुल से घरेलू उड़ानें तो शुरू हो गई हैं, लेकिन अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के लिए अभी कुछ काम किया जाना है, क्योंकि एयरपोर्ट को बहुत नुकसान हुआ है।

अफगानिस्तान के पक्तिका प्रांत में रेडियो स्टेशन बंद

15 अगस्त को अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद वहां के हालात काफी खराब हो चुके हैं। देश के पक्तिका प्रांत में एक स्थानीय रेडियो स्टेशन बंद हो गया है। MILMA नामक रेडियो स्टेशन के मालिक याकूब मंजूर (Yakub Manjoor) ने कहा कि वित्तीय परेशानियों और खराब हालात के चलते उनके लिए रेडियो चलाना संभव नहीं है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.