अफगानिस्तान में तालिबानी हिंसा जारी, लश्करगढ़ में लोगों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है UN

अफगानिस्तान से विदेशी सेनाओं की वापसी के साथ ही तालिबान की हिंसक गतिविधियां शुरू हो गई हैं जिसके कारण यहां से लोगों को सुरक्षित निकालने का प्रयास किया जा रहा है। इसपर संयुक्त राष्ट्र के महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने चिंता जाहिर की है।

Monika MinalThu, 05 Aug 2021 10:23 AM (IST)
अफगानिस्तान में तालिबानी हिंसा जारी, लश्करगढ़ में लोगों की सुरक्षा को लेकर चिंतित है UN

संयुक्त राष्ट्र, प्रेट्र। अफगानिस्तान में जारी संघर्ष के कारण इस साल के शुरुआत से लेकर अब तक करीब 360,000 लोगों को जबरन विस्थापित किया गया है। तालिबानियों के बढ़ते वर्चस्व और अफगानिस्तान की आम जनता के चिंताजनक हालात पर संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंटोनियो गुटेरस ने चिंता जताई है। उन्होंने लश्करगढ़ के लोगों की सुरक्षा को लेकर कहा है कि हिंसा के कारण लोग संकट का सामना करने को मजबूर हैं। दरअसल तालिबान के जारी हिंसा की चपेट में यहां के हजारों लोग आ सकते हैं। अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र सहयोग मिशन (UNAMA) ने शहरी इलाकों में जारी जंग को तुरंत खत्म करने को कहा है।

नवीनतम रिपोर्टों से पता चलता है कि तालिबानियों ने लश्करगढ़ में बीते 24 घंटे के दौरान 40 नागरिकों की जान ले ली। कंधार में 5 लोग मारे गए और 42 जख्मी हैं। महासचिव गुतेरस के प्रवक्ता स्टीफन दुजार्रिक ने कहा, 'देश के दक्षिणी हिस्से लश्करगढ़ में लोगों की सुरक्षा को लेकर हम काफी चिंतित हैं, जहां दस हजार से अधिक लोग तालिबान के चंगुल में आ सकते हैं।' दुजार्रिक ने बताया कि इस साल की शुरुआत से अब तक करीब 360,000 लोगों को जबरन विस्थापित किया जा रहा है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता फवाद अमन ने सोमवार को बताया था कि तालिबान ने हेलमंद प्रांत के लश्करगढ़ जिले की जेल पर बीती रात हमला किया, जिसे सुरक्षा बलों ने नाकाम कर दिया। कुल 40 आतंकवादियों ने जेल पर हमला किया था, जिनमें से 38 आतंकवादी मारे गए हैं जबकि 2 घायल हो गए हैं। अफगानिस्तान के विदेश मंत्री मोहम्मद हनीफ अतमर ने कहा कि तालिबानी हिंसा का सामना कर रहे अफगानिस्तान की मदद अंतरराष्टीय समुदाय कर सकता है।

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने अफगानिस्तान के हेरात में संयुक्त राष्ट्र के कार्यालय पर पिछले सप्ताह हुए हमले की कड़े शब्दों में निंदा की है। UNSC के अध्यक्ष एवं संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी प्रतिनिधि टीएस तिरूमूर्ति की ओर से जारी एक प्रेस रिलीज में कहा गया है कि अफगानिस्तान में संघर्ष का कोई सैन्य समाधान नहीं है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.