top menutop menutop menu

प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सिर्फ सऊदी अरब के लोग कर सकेंगे हज यात्रा, लागू किए गए नियम

प्रोटोकॉल का पालन करते हुए सिर्फ सऊदी अरब के लोग कर सकेंगे हज यात्रा, लागू किए गए नियम
Publish Date:Mon, 06 Jul 2020 01:17 PM (IST) Author: Vinay Tiwari

सऊदी अरब, रॉयटर्स। कोरोनावायरस की वजह से इस साल लोग हज यात्रा तो कर सकेंगे मगर इसके लिए उनको स्वास्थ्य प्रोटोकॉल का पालन करना होगा, सरकार ने इसके लिए घोषणा कर दी है। वैसे इस साल हज करने की अनुमति सरकार ने सऊदी अरब में रहने वाले लोगों को ही दी गई है, इसी के साथ उनकी संख्या भी सीमित कर दी गई है।

दरअसल सरकार ये नहीं चाहती कि इस तरह के धार्मिक स्थलों पर आने के बाद लोग कोरोनावायरस के संक्रमण का शिकार हो इस वजह से इसके लिए कुछ प्रोकोकॉल भी जारी किए गए हैं। प्रोटोकॉल के तहत हज यात्रियों के एक जगह इकट्ठा होने और बैठकें करने पर रोक लगा दी गई है।

जून महीने में ही सऊदी अरब ने हज करने वालों की संख्या सीमित करते हुए एक हजार कर दी थी। हज करने की अनुमति सिर्फ वहां रहने वाले लोगों को दी गई थी। पहली बार ऐसा हुआ है जब विदेशों से हज के लिए आने वाले मुसलमानों को इसके लिए रोक दिया गया हो, इस साल हज के दौरान खाना-ए-काबा को छूने पर प्रतिबंध रहेगा। काबे के तवाफ के दौरान डेढ़ मीटर की शारीरिक दूरी का नियम भी बनाया गया है और इसी के साथ सामूहिक नमाज के दौरान में भी दूरी रखने को कहा गया है। 

प्रोटोकॉल में कहा गया है कि हज के दौरान जाने वाले स्थल जैसे कि मोना, मुजदलिफा और अराफात तक वे ही जा पाएंगे, जिनके पास हज परमिट होगा। यह परमिट 19 जुलाई से लेकर 2 अगस्त के लिए लागू रहेगा। हज के दौरान यात्रियों के साथ-साथ आयोजकों और कर्मचारियों को हर समय मास्क लगाना अनिवार्य कर दिया गया है। मुसलमानों के लिए हज फर्ज होने की वजह से हर साल दुनिया भर के करीब 20 लाख मुसलमान हज के लिए मक्का पहुंचते हैं।

बड़ी संख्या में लोगों के जुटने की वजह से संक्रमण का खतरा भी रहता है और इस बार कोरोना के कारण पहले ही यहां आने वालों की संख्या को एकदम सीमित कर दिया गया है। अरब के बाहर रहने वालों को आने के लिए मना कर दिया गया है।  साल 2019 में भारत से करीब दो लाख लोगों ने हज किया था। पिछले साल ही सऊदी अरब ने भारत के लिए हज यात्रा के कोटे में वृद्धि की थी, मगर कोरोना की वजह से यहां के लोगों को इसका लाभ नहीं मिल पाया।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.