अफगान युद्ध में फिर कूदा अमेरिका, तालिबान के ठिकानों पर बरसाए बम, 24 घंटे में 375 आतंकी किए ढेर

अमेरिका ने ऐसे सभी स्थानों पर बम बरसाए जहां तालिबान आतंकी अफगान सेना पर हावी होने का प्रयास कर रहे थे। लड़ाई में हेलमंद की राजधानी लश्कर गाह सहित अन्य स्थानों पर हो रहे संघर्ष में 75 से ज्यादा आतंकी मारे गए 22 घायल हुए हैं।

Arun Kumar SinghTue, 03 Aug 2021 07:05 PM (IST)
अफगान युद्ध अब और तेज हो गया है।

 काबुल, एएनआइ। अफगान युद्ध अब और तेज हो गया है। लड़ाई प्रांतीय राजधानियों पर कब्जे को लेकर हो रही है। हेलमंद प्रांत की राजधानी लश्कर गाह में घुस रहे तालिबान आतंकियों को रोकने के लिए अमेरिका ने यहां जमकर बम बरसाए। अमेरिकी सेना ने ऐसे सभी तालिबान ठिकानों को निशाना बनाया, जहां वे शहरों में घुसने का प्रयास कर रहे हैं। इधर अफगान सेना ने भी अपनी पकड़ बनाए रखने के लिए पूरी ताकत लगा दी है। सैकड़ों तालिबान आतंकियों को मार गिराने का सरकार ने दावा किया है।

हेरात, कंधार, लश्कर गाह में चल रहा भीषण संघर्ष

अफगान सरकार के अनुसार सेना ने आतंकियों के खिलाफ अपने अभियान को जारी रखते हुए कई स्थानों पर बढ़त बनाई है। सेना ने पिछले 24 घंटे में 375 तालिबान आतंकियों को मार दिया और 193 आतंकी घायल हुए हैं। सुरक्षा बलों का यह आपरेशन कंधार, हेरात, हेलमंद, जौजान, बल्ख, उरुजगन, कपिसा आदि प्रांतों में चला। लश्कर गाह में तालिबान आतंकियों के घुसने से पहले अमेरिका ने कई हवाई हमले किए। यहां 40 आतंकी हवाई हमलों में ढेर हो गए। अमेरिका ने ऐसे सभी स्थानों पर बम बरसाए, जहां तालिबान आतंकी अफगान सेना पर हावी होने का प्रयास कर रहे थे। हवाई हमलों और जमीन पर हो रही लड़ाई में हेलमंद की राजधानी लश्कर गाह सहित अन्य स्थानों पर हो रहे संघर्ष में 75 से ज्यादा आतंकी मारे गए, 22 घायल हुए हैं। मरने वालों में तालिबान के तीन शीर्ष आतंकी भी हैं।

कंधार में भी भीषण संघर्ष चल रहा है। यहां आतंकियों ने 15 नागरिकों की हत्या कर दी, 120 से ज्यादा घायल हुए हैं। संयुक्त राष्ट्र सहायता मिशन ने ट्वीट कर नागरिकों की हत्या के बारे में जानकारी देने के साथ ही कहा है कि हिंसा के कारण हजारों नागरिकों का पलायन हो रहा है। पिछले तीन दिनों में लश्कर गाह में 10, कंधार में 5 नागरिक मारे गए हैं। हेरात में भी तीन नागरिकों की मौत हो गई है। हेरात शहर में पिछले छह दिनों से संघर्ष चल रहा है।

अफगान सेना में भर्ती के लिए लड़कियों में भी जोश

एएनआइ के अनुसार अफगान सेना में भर्ती के लिए यहां के युवाओं में जबर्दस्त जोश है। काबुल के राष्ट्रीय मिलिट्री अकादमी में चल रही भर्ती प्रक्रिया में पांच हजार से ज्यादा युवा अपनी बारी का इंतजार कर रहे हैं। लड़कों के साथ ही लड़कियां भी भर्ती के लिए उतने ही उत्साह से शामिल हो रही हैं। यहां सेना के चीफ आफ स्टाफ जनरल वली मोहम्मद अहमद जई भी मौजूद हैं। उन्होंने हिंसाग्रस्त देश की सेवा में आने वाले युवाओं के जोश की सराहना की।

अफगानिस्तान को तबाही से बचाने के लिए संयुक्त राष्ट्र कदम उठाए

आइएएनएस के अनुसार, संयुक्त राष्ट्र के अफगानिस्तान में राजदूत रहे काई आइड और तदामिची यामामोटो ने कहा है कि मौजूदा स्थिति में संयुक्त राष्ट्र को युद्ध रोकने के लिए कड़े कदम उठाने चाहिए। यही वह समय है, जब अफगान नागरिकों को तबाही से बचाया जा सकता है। इसके लिए संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की तत्काल बैठक बुलानी चाहिए।

अफगान सहयोगियों के लिए ब्लिकंन ने प्रायर्टी 2 योजना शुरु की

रायटर के अनुसार, अमेरिका के विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने अफगान सहयोगियों के लिए सोमवार को प्रायर्टी 2 योजना की घोषणा की। इसके तहत वीजा बनाने में श्रेणियों का विस्तार किया गया है। पिछले 13 वर्षों में अफगानिस्तान से 70 हजार अफगान सहयोगियों को विशेष प्रवासी वीजा दिए गए हैं। प्रायर्टी 2 योजना में 50 हजार से ज्यादा लोगों के वीजा बनने की संभावना है।

अमेरिका और ब्रिटेन ने तालिबान पर लगाए युद्ध अपराध के आरोप

रायटर के अनुसार, काबुल स्थित अमेरिका और ब्रिटेन के दूतावासों ने ट्वीट करके तालिबान पर युद्ध अपराध करने का आरोप लगाया है। दोनों देशों के दूतावास ने ट्वीट किया है कि तालिबान निर्दोष नागरिकों की हत्या कर रहा है। तालिबान के प्रवक्ता सुहैल शाहीन ने इसका खंडन किया है।

पाक के हित में अफगानिस्तान का बर्बाद होना जरूरी

आइएएनएस के अनुसार पाकिस्तान के पूर्व आइएसआइ प्रमुख हामिद गुल के पुत्र अब्दुल्लाह गुल ने दक्षिण वजीरिस्तान में एक सभा में कहा कि अफगानिस्तान को पूरी तरह बर्बाद कर देना चाहिए। यह देश भविष्य में पाक के साथ मुकाबला करने के काबिल न रहे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.