संयुक्त राष्ट्र ने कहा- 2027 तक सर्वाधिक आबादी वाला देश बनेगा भारत, चीन को जल्द पीछे छोड़ सकता है भारत

भारत जल्द ही दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन सकता है।

चीन की सरकार द्वारा जारी सातवीं राष्ट्रीय जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक सभी 31 प्रांतों स्वायत्त क्षेत्रों और नगरपालिकाओं को मिलाकर चीन की जनसंख्या 1.41178 अरब हो गई है। इस तरह सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले देश के रूप में इसका स्थान बरकरार है।

Bhupendra SinghThu, 13 May 2021 01:12 AM (IST)

बीजिंग, प्रेट्र। चीन के जनसंख्या विशेषज्ञों का कहना है कि भारत जल्द ही दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन सकता है। संयुक्त राष्ट्र का अनुमान है कि भारत 2027 तक चीन को पीछे छोड़कर दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन जाएगा, लेकिन चीनी विशेषज्ञों का अनुमान है कि संयुक्त राष्ट्र द्वारा किए गए आकलन से पहले ही यह स्थिति आ सकती है। चीन में पिछले कुछ वर्षों में जन्म दर में तेजी से गिरावट दर्ज की जा रही है।

संयुक्त राष्ट्र रिपोर्ट: 2050 तक भारत की आबादी में 27.30 करोड़ की होगी बढ़ोतरी

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2050 तक भारत की आबादी में 27.30 करोड़ की बढ़ोतरी हो सकती है। संयुक्त राष्ट्र की यह रिपोर्ट 2019 में जारी हुई थी। इसमें अनुमान लगाया गया था कि 2027 में यह चीन को पीछे छोड़कर दुनिया की सर्वाधिक आबादी वाला देश बन जाएगा।

सदी के अंत तक भारत सर्वाधिक आबादी वाला देश बना रहेगा

रिपोर्ट के अनुसार, वर्तमान सदी के अंत तक भारत सर्वाधिक आबादी वाला देश बना रहेगा। संयुक्त राष्ट्र ने 2019 में भारत की आबादी लगभग 1.37 अरब और चीन की आबादी 1.43 अरब होने का अनुमान लगाया था।

सातवीं राष्ट्रीय जनगणना: चीन की जनसंख्या 1.41178 अरब

चीन की सरकार द्वारा मंगलवार को जारी सातवीं राष्ट्रीय जनगणना के आंकड़ों के मुताबिक सभी 31 प्रांतों, स्वायत्त क्षेत्रों और नगरपालिकाओं को मिलाकर चीन की जनसंख्या 1.41178 अरब हो गई है। इस तरह सबसे ज्यादा जनसंख्या वाले देश के रूप में इसका स्थान बरकरार है।

भारत की जनसंख्या वर्ष 2027 से पहले चीन से अधिक हो सकती

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने बुधवार को जनसंख्या संबंधी अध्ययन के चीनी विशेषज्ञों के हवाले से कहा कि भारत की जनसंख्या वर्ष 2027 से पहले चीन से अधिक हो सकती है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.