म्‍यांमार में बढ़ा बवाल, सेना के समर्थन में उतरे लोगों ने तख्तापलट के खिलाफ प्रदर्शन करने वालों पर बोला हमला

म्‍यांमार में सैन्य शासन के समर्थन में भी लोग उतर आए हैं जिससे तनाव और बढ़ गया है।

म्‍यांमार में सैन्य शासन के समर्थन में भी लोग उतर आए हैं जिससे तनाव और बढ़ गया है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक सैन्य शासन का समर्थन कर रहे गुट के लोगों ने सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रहे लोगों पर बृहस्पतिवार को हमला बोल दिया।

Krishna Bihari SinghThu, 25 Feb 2021 04:45 PM (IST)

यांगून, एजेंसियां। म्‍यांमार में सैन्य शासन के समर्थन में भी लोग उतर आए हैं जिससे तनाव और बढ़ गया है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक सैन्य शासन का समर्थन कर रहे गुट के लोगों ने सैन्य तख्तापलट का विरोध कर रहे लोगों पर बृहस्पतिवार को हमला बोल दिया। इस हमले में कई लोग घायल हो गए हैं। उधर म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद चल रहे संघर्ष के बीच फेसबुक ने म्यांमार की सेना को अपने प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने से तत्काल प्रभाव से प्रतिबंधित कर दिया है।

समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक 'असोसिएशन ऑफ साउथ ईस्ट एशियन नेशन' के सदस्य म्यांमार की सेना से तनाव कम करने के लिए कुछ ढील देने की अपील कर रहे हैं। 10 देशों के इस क्षेत्रीय गुट का मानना है कि टकराव के बजाए सैन्य अधिकारियों के साथ बातचीत किसी सहमति तक पहुंचने के लिए ज्यादा प्रभावी तरीका है। सोशल मीडिया पर जारी की गई तस्वीरों में हमलावरों और घायलों को साफ साफ देखा जा सकता है। हालांकि पुलिस हमलावरों को रोकने के बजाए मूकदर्शक खड़ी नजर आ रही है।  

एक वीडिया में देखा जा सकता है कि एक व्यक्ति को सरेआम चाकू मारा जा रहा है। सुले पगोडा जाने वाली एक सड़क के चौराहे पर एक कार्यालय के सामने हुई इस घटना का वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। रिपोर्ट के मुताबिक घायलों की स्थिति के बारे में फिलहाल कुछ पता नहीं चल सका है। यह हमला उस समय हुआ जब सैकडों लोगों ने सैन्य तख्तापलट के पक्ष में रैली निकाली। लोगों ने अपने हाथों में बैनर ले रखे थे जिनमें लिखा था कि हम अपनी रक्षा सेवाओं के साथ खड़े हैं।  

उधर म्यांमार में सैन्य तख्तापलट के बाद चल रहे संघर्ष के बीच सोशल मीडिया कंपनी फेसबुक ने म्यांमार की सेना को अपने प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करने से तत्काल प्रतिबंधित कर दिया है। म्यांमार की सेना अब फेसबुक और इंस्टाग्राम का इस्तेमाल नहीं कर पाएगी। फेसबुक ने कहा है कि तख्तापलट के बाद से हिंसा समेत अन्य घटनाओं के कारण इस प्रतिबंध को लगाना जरूरी हो गया था। बता दें कि स्टेट एडमिनिस्ट्रेशन काउंसिल सैन्य सरकार का आधिकारिक नाम है। सेना ने एक फरवरी को सरकार का तख्ता पलट कर शासन अपने हाथ में ले लिया था। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.