तिब्बत में मशीन गन और रॉकेट लांचर के साथ सैनिकों को ट्रेनिंग दे रहा चीन

चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) तिब्बत में अपने सैनिकों को भारी मशीन गन राकेट लांचर और मोर्टार बम का इस्तेमाल करते हुए ट्रेनिंग दे रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तिब्बत के भीतरी इलाकों में सैनिकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

Pooja SinghSun, 01 Aug 2021 12:30 AM (IST)
तिब्बत में मशीन गन और रॉकेट लांचर के साथ सैनिकों को ट्रेनिंग दे रहा चीन

बीजिंग, आइएएनएस। चीन की सेना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) तिब्बत में अपने सैनिकों को भारी मशीन गन, राकेट लांचर और मोर्टार बम का इस्तेमाल करते हुए ट्रेनिंग दे रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक तिब्बत के भीतरी इलाकों में सैनिकों को प्रशिक्षित किया जा रहा है।

लक्षित स्थान पर जाने के लिए सेना के अधिकारियों और जवानों ने कीचड़ भरे पहाड़ों को पार किया है। इन्हें युद्ध जैसे हालात में प्रशिक्षण दिया जा रहा है। साउथ चाइना मार्निग पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक निंगशिया में संयुक्त युद्धाभ्यास में चीन और रूस के 10 हजार से ज्यादा जवान होंगे।

चीन के रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने यू कियान ने गुरुवार को कहा था कि निंगशिया हुई स्वायत्त प्रांत में अगस्त के शुरू में यह अभ्यास किया जाएगा। चीन ने ऐसे समय में यह घोषणा की है, जब अमेरिका के साथ उसके और रूस के संबंध खराब चल रहे हैं। परमाणु मिसाइलों के लिए बंकर बनवा रहा चीन वहीं, सेटेलाइट से मिली तस्वीरों के मुताबिक चीन परमाणु मिसाइलों को रखने के लिए भूमिगत कक्ष बनवा रहा है। वाशिंगटन पोस्ट के मुताबिक मिसाइल रखने के लिए चीन का यह दूसरा बंकर है। पहले की तुलना में इसका आकार भी बहुत बड़ा है।

बता दें कि पिछले दिनों अमेरिका के एक सांसद ने चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग के तिब्बत दौरे को भारत के लिए खतरा बताने के साथ राष्ट्रपति जो बाइडन पर बीजिंग को रोकने के लिए कुछ न करने का आरोप लगाया था। बीते बुधवार को शी ने अचानक तिब्बत के नाइंगची (Nyingchi) का तीन दिवसीय दौरा किया था वहां वे तिब्बत मिलिट्री कमांड के शीष अधिकारियों से मिले और क्षेत्र में हो रहे विकास परियोजनाओं की समीक्षा करने पहुंचे थे। शी ऐसे समय पर तिब्बत का दौरा करने पहुंचे जब भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में पिछले साल मई से गतिरोध जारी है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.