चीन की नई पैंतरेबाजी, चमगादड़ से कोरोना मिलने का किया दावा, दुनिया का ध्‍यान भटकाने की कोशिश

कोविड-19 के स्रोत का पता लगाने के लिए नए सिरे से जांच कराने की बढ़ती मांग के बीच चीन की एक नई पैंतरेबाजी सामने आई है। उसके शोधकर्ताओं ने चमगादड़ों से ही इस वायरस की उत्पत्ति साबित करने की पुरजोर कोशिश की है।

Ramesh MishraSat, 12 Jun 2021 07:30 PM (IST)
अब चीन की नई पैंतरेबाजी, चमगादड़ से कोरोना मिलने का किया दावा। फाइल फोटो।

वाशिंगटन, एजेंसी। कोविड-19 के स्रोत का पता लगाने के लिए नए सिरे से जांच कराने की बढ़ती मांग के बीच चीन की एक नई पैंतरेबाजी सामने आई है। उसके शोधकर्ताओं ने चमगादड़ों से ही इस वायरस की उत्पत्ति साबित करने की पुरजोर कोशिश की है। चीनी शोधकर्ताओं ने चमगादड़ों में कोरोना का एक समूह मिलने का दावा किया है। खास बात यह है कि चीन ने यह बयान ऐसे समय दिया है, अमेरिका समेत दुनिया के तमाम मुल्‍कों ने चीन के एक लैब से कोरोना लीक होने पर संदेह किया है। इतना ही नहीं अमेरिका के पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप ने तो कोरोना वायरसके प्रसार के लिए चीन को जिम्‍मेदार ठहराया और मुआवजे की मांग की है। 

दुनिया को संदेह चीनी लैब से कोरोना लीक हुआ

दुनिया के कई देशों को यह संदेह है कि चीनी लैब से कोरोना लीक हुआ। इसकी व्यापक जांच कराने की मांग जोर पकड़ रही है। सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, इन नए वायरसों में से एक आनुवांशिक तौर पर कोविड-19 के बेहद करीब हो सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि उन्होंने दक्षिण-पश्चिम चीन में यह खोज की है। सेल पत्रिका में इस अध्ययन को प्रकाशित किया गया है। शेडोंग यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने बताया, 'हमने चमगादड़ों की विभिन्न प्रजातियों से चार सार्स-कोव-2 जैसे कोरोना समेत कुल 24 कोरोना वायरस के जीनोम एकत्र किए गए।'

चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस का मामला सामने आया

चीन की यह बात तब सामने आई जब लंदन से प्रकाशित समाचार पत्र डेली मेल ने ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से किए गए एक अध्ययन के हवाले से कहा है कि वर्ष 2019 के आखिर में जब चीन के वुहान शहर में कोरोना वायरस का मामला सामने आया था, तब उससे पहले वहां के वेट मार्केट में चमगादड़ या पेंगोलिन की खरीद-बिक्री ही नहीं हुई थी। इसके साथ अमेरिका इस वायरस की उत्‍पत्ति और प्रसार के लिए सीधे तौर पर चीन को जिम्‍मेदार ठहराया है। अमेरिका ने इसके लिए चीन से मुआवजे की मांग की है।

बाजार में मनुष्य का चमगादड़ या पेंगोलिन से सीधा संपर्क नहीं हुआ

कोरोना वायरस की उत्पत्ति को लेकर अब तक किए गए तमाम अध्ययनों में भी इसके वुहान लैब में बनाए जाने के पक्ष में मजबूत साक्ष्य मिले हैं। ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी के क्रिस न्यूमैन ने मेल आनलाइन से कहा कि हमारा डाटा यह निर्धारित नहीं कर सकता है कि मनुष्य कैसे कोरोना वायरस से संक्रमित हुआ। इतना जरूर है कि इस बाजार में मनुष्य के चमगादड़ों या पेंगोलिन के सीधे संपर्क आने की संभावना कतई नहीं है। इस नए दावे से कोरोना वायरस की उत्पत्ति की जांच की बढ़ती मांग को भी बल मिलता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.