जंगल की आग रोकने का जरिया बन सकती हैं बकरियां, जानें कैैसे

Wild Fire अमेरिका की लानी मामबर्ग ने खर-पतवारों को नष्ट करने के लिए अनूठा तरीका अपनाया है। इस तरीके से यह स्पष्ट है कि जंगल की आग को रोकने के लिए बकरियों को जरिया बनाया जा सकता है।

Monika MinalSun, 19 Sep 2021 12:52 AM (IST)
जंगल की आग रोकने का जरिया बन सकती हैं बकरियां

वाशिंगटन [न्यूयार्क टाइम्स]। जंगल की आग (Wild Fire) पूरी दुनिया के लिए बड़ा संकट है। इससे निपटने के लिए कई वैज्ञानिक तरीके अपनाए और आजमाए जा रहे हैं। न्यूयार्क टाइम्स के अनुसार, अमेरिका की लानी मामबर्ग (Lani Malmberg) इस समस्या के समाधान का अनूठा तरीका आजमा रही हैं। उन्होंने बकरियों (Goats) की मदद से जंगल की आग के खतरे को कम करने का तरीका ईजाद किया है।

छोटी घास से लेकर ऊंची झाड़ियों को भी खा सकती हैं बकरियां

मामबर्ग का कहना है कि बकरियां छोटी घास से लेकर ऊंचाई वाली झाड़ियों को भी आसानी से खा सकती हैं जो सामान्य तौर पर गाय, भैंस आदि के लिए संभव नहीं होता है। इसलिए बकरियों को जंगल में चरने के लिए छोड़ देने से झाड़ियों को खत्म करना आसान होता है। इससे आग लगने पर कम फैलती है। 'Goat Green' की फाउंडर लानी मामबर्ग 25 साल से अधिक समय से बकरियों की देखभाल कर रहीं हैं।

मिट्टी की क्वालिटी भी बढ़ेगी

मामबर्ग के इस नए प्रयोग का दूसरा बड़ा लाभ यह भी है कि बकरियों के अपशिष्ट से मिट्टी में कार्बनिक तत्व की मात्रा बढ़ जाएगी और इससे उसकी नमी सोखने की क्षमता ज्यादा हो जाती है। इससे भी भविष्य में आग लगने और फैलने की आशंका कम हो जाती है। मिट्टी में कार्बनिक तत्व की मौजूदगी एक फीसद बढ़ने  से उस जमीन में प्रति एकड़ 16,500 गैलन अतिरिक्त पानी अवशोषित हो सकता है।

अमेरिका के कई इलाकों में मामबर्ग के इस प्लान पर हो रहा काम

मामबर्ग ने कोलोरैडो स्टेट यूनिवर्सिटी से वीड साइंस में मास्टर्स की डिग्री ली है। इसमें खर-पतवार को नष्ट करने की तकनीक के बारे में पढ़ाई होती है। पिछले साल कोलोरैडो के ब्यूरो आफ लैंड मैनेजमेंट ने आग पर नियंत्रण की इस युक्ति के लिए मामबर्ग से संपर्क किया था। फिलहाल अमेरिका के कई इलाकों में मामबर्ग की इस युक्ति को अपनाया जा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.