चीन के खतरे का मुकाबला करने के लिए गुआम स्थित सैनिक अड्डे का आधुनिकीकरण करेगा अमेरिका

चीन के खतरे का मुकाबला करने के लिए अमेरिका आस्ट्रेलिया और पश्चिमी प्रशांत द्वीप गुआम स्थित अपने सैनिक अड्डों का आधुनिकीकरण करेगा। इसके साथ ही हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने के लिए अमेरिका अपने सहयोगियों की मदद बढ़ाएगा।

Arun Kumar SinghPublish:Tue, 30 Nov 2021 09:57 PM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 09:57 PM (IST)
चीन के खतरे का मुकाबला करने के लिए गुआम स्थित सैनिक अड्डे का आधुनिकीकरण करेगा अमेरिका
चीन के खतरे का मुकाबला करने के लिए गुआम स्थित सैनिक अड्डे का आधुनिकीकरण करेगा अमेरिका

 वाशिंगटन, एएनआइ। चीन के खतरे का मुकाबला करने के लिए अमेरिका, आस्ट्रेलिया और पश्चिमी प्रशांत द्वीप गुआम स्थित अपने सैनिक अड्डों का आधुनिकीकरण करेगा। इसके साथ ही हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति को बढ़ावा देने के लिए अमेरिका अपने सहयोगियों की मदद बढ़ाएगा, ताकि चीन के संभावित सैन्य अतिक्रमण का सटीक उत्तर दिया जा सके। रक्षा विभाग की 'वैश्विक स्थिति समीक्षा' में सैनिक अड्डों के आधुनिकीकरण पर जोर दिया गया है। बाइडन ने हाल ही में रक्षा मंत्री लायड आस्टिन की वैश्विक स्थिति समीक्षा और सिफारिशों को मंजूरी दी है।

चीन के सैन्य अतिक्रमण का उत्तर देने के लिए सहयोगियों की और मदद करेगा वाशिंगटन

आस्टिन ने मार्च में इसे शुरू किया था। यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है जब अमेरिका, चीन से उभरते खतरों का मुकाबला करने में जुटा है। अमेरिकी रक्षा विभाग ने वैश्विक स्थिति समीक्षा के निष्कर्षो के बारे में कहा, 'समीक्षा हिंद-प्रशांत में पहल बढ़ाने के लिए गठबंधन सहयोगियों और साझेदारों के साथ अतिरिक्त सहयोग का निर्देश देती है। इससे क्षेत्रीय स्थिरता को बल मिलेगा और चीन के संभावित सैन्य अतिक्रमण और उत्तर कोरिया के खतरे का मुकाबला किया जा सकेगा।'

चीन को घेरने में जुटा है अमेरिका : बीजिंग

बीजिंग, प्रेट्र : चीन ने मंगलवार को अमेरिकी रक्षा विभाग के मुख्यालय पेंटागन की रिपोर्ट पर जवाबी हमला किया। बीजिंग ने कहा कि गुआम और आस्ट्रेलिया में अमेरिकी अड्डों को मजबूत करना, वाशिंगटन का हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की घेराबंदी करने का प्रयास है।