अफगानिस्तान से सैनिकों की वापसी के लिए अमेरिका उठा सकता है ये कदम

अफगानिस्तान में बढ़ सकती है अमेरिकी सैनिकों की संख्या

अमेरिकी बलों की अफगानिस्तान से सुरक्षित वापसी के लिए वहां सैन्य बलों की क्षमता कुछ समय के लिए बढ़ाए जाने की संभावना है। अमेरिका के रक्षा विभाग पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने कहा कि मैं अभी यह नहीं बता सकता कि यह प्रक्रिया कैसे होगी।

Monika MinalSat, 17 Apr 2021 03:20 PM (IST)

वाशिंगटन, प्रेट्र। अफगानिस्तान (Afghanistan) से 11 सितंबर तक अमेरिकी बलों की पूर्ण वापसी का एलान किया गया है। इनकी सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए अमेरिका युद्ध प्रभावित इस देश में अपने सैनिकों की संख्या बढ़ा सकता है। अमेरिका के रक्षा विभाग पेंटागन (Pentagon) ने यह जानकारी दी है।

अफगानिस्तान में सेना की अतिरिक्त क्षमता

पेंटागन (Pentagon) के प्रवक्ता जॉन किर्बी (John Kirby) ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा, 'इस संभावना से इन्कार नहीं किया जा सकता है कि कुछ समय के लिए अफगानिस्तान में अतिरिक्त क्षमता बढ़ाई जाएगी, ताकि राष्ट्रपति द्वारा तय की गई समय सीमा तक बलों की सुरक्षित, व्यवस्थित और सुनियोजित वापसी सुनिश्चित हो सके।' हालांकि किर्बी ने यह भी कहा, 'मैं अभी यह नहीं बता सकता कि यह प्रक्रिया कैसे होगी और इस दौरान कितने सैनिकों की तैनाती की जाएगी।' राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) ने गत बुधवार को एलान किया था कि अफगानिस्तान (Afghanistan) से 11 सितंबर तक अमेरिकी बलों को वापस बुला लिया जाएगा। बाइडन ने कहा था कि हजारों सैनिकों को केवल एक देश की सुरक्षा पर केंद्रित करना और अरबों डॉलर खर्च करना सही निर्णय नहीं है। अफगानिस्तान में अभी ढाई से तीन हजार अमेरिकी सैनिक हैं।

अमेरिकी सेना की वापसी 

अफगानिस्‍तान से अमेरिकी सेना की वापसी का रास्‍ता पूर्व राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप (Donald Trump) ने ही तैयार किया था। उन्‍होंने अपने कार्यकाल के दौरान अनेकों बार इस बात को दोहराया कि अफगान से अपनी सेना वापसी के लिए प्रतिबद्ध हैं। फरवरी 2020 में अमेरिका और तालिबान के बीच समझौता ट्रंप के इस फैसले पर मंजूरी देने जैसा ही था। इसमें कहा गया था कि अमेरिकी फौज को 1 मई तक अफगानिस्‍तान से वापस ले जाया जाएगा। हालांकि अमेरिका में सरकार के बदलने और जो बाइडन के सत्‍ता में आने के बाद इस समझौते में बदलाव किया गया और अमेरिकी सेना की वापसी की समय सीमा सितंबर तक के लिए बढ़ाई गई।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.