अमेरिका में मिशिगन के स्कूल में छात्र ने की फायरिंग, 3 छात्रों की मौत, कई घायल

अमेरिका में मिशिगन के हाई स्कूल में एक 15 वर्षीय छात्र ने फायरिंग कर दी जिसमें तीन छात्रों की मौत और 8 लोग घायल हो गए। मृतकों में 16 साल का लड़का और 17 व 14 साल दो लड़कियां शामिल हैं। घायलों में एक शिक्षक और 7 छात्र शामिल हैं।

Geetika SharmaPublish:Wed, 01 Dec 2021 10:56 AM (IST) Updated:Wed, 01 Dec 2021 11:06 AM (IST)
अमेरिका में मिशिगन के स्कूल में छात्र ने की फायरिंग, 3 छात्रों की मौत, कई घायल
अमेरिका में मिशिगन के स्कूल में छात्र ने की फायरिंग, 3 छात्रों की मौत, कई घायल

अमेरिका, रायटर। अमेरिका में मिशिगन के हाई स्कूल में एक 15 वर्षीय नाबालिग छात्र ने फायरिंग कर दी। घटना में तीन छात्रों की मौत हो गई और 8 अन्य लोग घायल हैं। मृतकों में एक 16 साल का लड़का और 17 व 14 साल दो लड़कियां शामिल हैं। घायलों में एक शिक्षक और 7 छात्र शामिल हैं। घायल हुए लोगों की हालत गंभीर मानी जा रही है, जिनकी सर्जरी की जा रही है और अन्य छह की हालत स्थिर है। राष्ट्रपति जो बाइडन ने भी घटना पर दुख जाहिर किया है और मृतकों के परिवारों के प्रति संवेदना भी जाहिर की है।

आरोपी हुआ गिरफ्तार

जानकारी के अनुसार घटना की सूचना मिलते ही पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। हमला करने वाला आरोपी स्कूल का ही छात्र था और उसने पूरी घटना को अकेले ही अंजाम दिया। आरोपी से एक पिस्तौल बरामद हुई है। यह पूरी घटना पांच मिनट तक चली, जिसमें आरोपी ने एकसाथ 15 से 20 फायर किए। ओकलैंड काउंटी के अंडरशेरिफ माइकल जी. मैककेबे ने कहा कि स्कूल प्रशासन ने घटना के बाद जैसे लोगों और छात्रों को संभाला वह प्रशंसनीय है।

मामले की जांच कर रही पुलिस

पुलिस ने बताया कि घटना के कारणों का अभी पता नहीं चल पाया है। पुलिस मामले की जांच कर रही है। आरोपी ने पुलिस के सामने कुछ भी स्वीकार नहीं किया है और वकील देने की मांग की है। ओकलैंड काउंटी अभियोजक करेन मैकडॉनल्ड्स ने एक बयान में कहा कि मामले में जल्द से जल्द जांच पूरी करके आरोपी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी, जिससे उसे सख्त सजा दी जाए। वहीं , सोशल मीडिया पर कई छात्रों ने घटना का वीडियो भी पोस्ट किया है।

स्कूल में मचा हड़कंप

स्कूल के छात्र एबी होडर ने मीडिया को बताया कि सभी छात्र क्लास में थे और जोर-जोर से कुछ टूटने की आवाज आई, जिसे सुनते ही सभी छात्र और टीचर इधर-उधर भागने लग गए। स्कूल के सभी छात्रों ने जल्द से जल्द सभी रास्तों पर बैरिकेडिंग की, जिससे वह अपने आप को सुरक्षित कर सकें। गोलाबारी बंद होते ही सभी छात्रों को जल्द से जल्द स्कूल से बाहर निकाला गया।