अमेरिका में गोलीबारी कहीं नस्ली हिंसा तो नहीं, सिख समुदाय ने की जांच की मांग

फेडएक्स कंपनी परिसर में हुई हिंसा में चार सिख समेत मारे गए थे आठ लोग।

भारतीय मूल के चार अमेरिकी नागरिकों सहित आठ लोगों की हत्या करने वाले शूटर के परिवार ने मारे गए लोगों के स्वजनों से माफी मांगी है और कहा है कि अपने बेटे के कृत्यों से वे बर्बाद हो गए हैं।

Manish PandeyMon, 19 Apr 2021 07:18 AM (IST)

वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिका के प्रभावशाली सांसदों और सिख समुदाय के लोगों ने इंडियानापोलिस में हुई गोलीबारी की इस लिहाज से जांच की मांग की है कि यह घटना कहीं नस्ली हिंसा तो नहीं थी। फेडएक्स कंपनी के परिसर में हुई अंधाधुंध गोलीबारी में आठ लोगों की मौत हो गई थी। इनमें चार लोग सिख समुदाय के थे। भारतीय मूल के अमेरिकी सांसद राजा कृष्णमूर्ति ने कहा कि गुरुवार रात हुई इस घटना की इस लिहाज से भी जांच की जानी चाहिए कि हिंसा के पीछे सिख विरोधी भावना तो काम नहीं कर रही थी।

उन्होंने कहा, इस समय इंडियानापोलिस और सिख समुदाय के लोग मातम मना रहे हैं। इस मातम में पूरा देश उनके साथ शामिल है। जांचकर्ताओं को निश्चित रूप से यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हमले के पीछे नफरत की भावना तो काम नहीं कर रही थी। उन्होंने कहा कि यह घटना ऐसे समय हुई है, जब देश में एशियाई लोगों के खिलाफ हिंसा में बढ़ोतरी हुई है। यह इस बात का सबसे ताजा उदाहरण है कि हिंसा ने किस कदर हमारे देश को अपनी चपेट में ले लिया है। उन्होंने कहा कि पिछले पांच वर्षो में विभिन्न अमेरिकी समुदायों के खिलाफ ¨हसक घटनाओं में बढ़ोतरी हुई है।

इंडियानापोलिस के आठ गुरुद्वारों ने भी इस गोलीबारी को लेकर संयुक्त बयान जारी किया है। इसमें कहा गया है कि हम हमलावर के उद्देश्य के बारे में कुछ नहीं जानते। हम कभी यह नहीं जान पाएंगे कि उसने ऐसा क्यों किया? हालांकि हम यह बात जरूर जानते हैं कि जिस फेडएक्स कंपनी को उसने निशाना बनाया, वह अपने कार्यबल के लिए जाना जाता है। सिख समुदाय के प्रसिद्ध नेता गु¨रदर सिंह खालसा ने एक समिति के गठन का एलान किया, जो उन परिस्थितियों और कमियों पर विचार करेगी, जिनके चलते यह घटना घटी। फेडएक्स परिसर में हिंसा के शिकार लोगों में अमरजीत कौर जोहल, जसविंदर कौर, अमरजीत सेखों और जसविंदर सिंह शामिल हैं। इनमें तीन महिलाएं हैं।

हमलावर ने पिछले साल खरीदी थीं दो बंदूकें

फेडएक्स परिसर में हमला कर आठ लोगों को मौत की घाट उतारने वाले कंपनी के पूर्व कर्मचारी ब्रैंडन स्काट होल ने पिछले साल कानूनी तौर पर दो बंदूकें खरीदी थीं। इंडियानापोलिस मेट्रोपोलिटन पुलिस विभाग के अधिकारियों ने बताया कि जांचकर्ताओं को पता चला है कि हमलावर ने पिछले साल जुलाई और सितंबर में ये बंदूकें खरीदीं। हालांकि, जांच का हवाला देते हुए उन्होंने यह नहीं बताया कि बंदूकें कहां से खरीदी गई, लेकिन इतना जरूर कहा कि हमले में उसने दोनों बंदूकों का इस्तेमाल किया। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी क्रेग मैक्कार्ट ने कहा कि होल ने कंपनी परिसर के पार्किंग इलाके में अचानक गोलीबारी शुरू कर दी, जिसमंे चार व्यक्ति मारे गए। इसके बाद इमारत में घुसकर चार और लोगों को मार डाला। फिर उसने खुद को गोली मार दी।

हमलावर के परिवार ने मृतकों के स्वजनों से माफी मांगी

भारतीय मूल के चार अमेरिकी नागरिकों सहित आठ लोगों की हत्या करने वाले शूटर के परिवार ने मारे गए लोगों के स्वजनों से माफी मांगी है और कहा है कि अपने बेटे के कृत्यों से वे बर्बाद हो गए हैं। हमलावर के परिवार ने मृतकों के स्वजन और इंडियानापोलिस समुदाय के लिए एक बयान जारी किया। बयान में कहा गया है, इस दुखद घटना के पीडि़तों से हम हृदय से माफी मांगते हैं। हम उनके दुख के लिए स्वजनों एवं पूरे इंडियानापोलिस समुदाय से खेद जताते हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.