दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

बंगाल में हुई हिंसा के विरोध में अमेरिका के तीस शहरों में प्रदर्शन, ब्रिटेन समेत कई देशों ने की निंदा

बंगाल में हुई हिंसा के विरोध में अमेरिका में विरोध प्रदर्शन। (फोटो: दैनिक जागरण)

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों के बाद हुई हिंसा के विरोध में अमेरिका के तीस शहरों में विरोध प्रदर्शन किया गया है। ब्रिटेन समेत कई अन्य देशों में भी हिंसा की निंदा। प्रदर्शनकारियों ने चुनाव बाद हिंसा को बताया नरसंहार।

Shashank PandeyMon, 10 May 2021 02:41 PM (IST)

ह्यूस्टन, प्रेट्र। पश्चिम बंगाल में चुनाव के बाद जबर्दस्त हिंसा के विरोध में अमेरिका के तीस से अधिक शहरों में प्रदर्शन किए गए। प्रदर्शनकारियों ने हिंसा की निंदा करते हुए इसे नरसंहार बताया और दोषियों को सख्त सजा देने की मांग की है। प्रदर्शन में भाग लेने वालों में भारतीय-अमेरिकी लोगों के साथ बड़ी संख्या में प्रवासी बंगाली भी थे। ये ज्यादातर पश्चिम बंगाल से ही अमेरिका आए हैं। प्रदर्शन करने वालों के हाथों में तख्तियां थीं, 'नरसंहार के दोषियों को सख्त सजा दी जाए'।

जुधाजित सेन मजूमदार सिलिकॉन वैली में व्यापार करते हैं। प्रदर्शन में शामिल होने के दौरान उन्होंने बताया कि अक्सर पश्चिम बंगाल जाते रहते हैं। चुनाव के बाद से सभी मिलने वालों के पास फोन आने लगे। ऐसा लग रहा था कि वहां पर नियोजित तरीके से नरसंहार किया जा रहा है। इस हिंसा के विरोध में अमेरिका के कई शहर ही नहीं ब्रिटेन सहित कई अन्य देशों में भी प्रदर्शन किए गए हैं। प्रदर्शनकारियों की मांग हिंसा की उच्चस्तरीय जांच और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की थी। ह्यूस्टन में रहने वाले लेखक सहाना सिंह ने कहा कि वे कोलकाता में पले बढ़े हैं। जिस तरह की हिंसा चुनाव के बाद बंगाल में हुई हैं, ऐसा सिर्फ देश में विभाजन के दौरान ही हुआ था।

बंगाल में फिर एक की मौत, छह घायल

बंगाल में विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद से जारी राजनीतिक हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। बीरभूम जिले में शुक्रवार रात हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि छह लोग घायल हो गए। जानकारी के मुताबिक, घटना मुक्तिनगर गांव की है जहां भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। घायलों का सूरी के अस्पताल में इलाज चल रहा है। बता दें कि यह घटना उस समय हुई है जब केंद्रीय गृह मंत्रालय का एक दल राज्य में हिंसा की पड़ताल कर रहा है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.