भारत-अमेरिका संबंध और मजबूत होंगे, दोनों देशों के बीच प्रवासी भारतीय हैं सेतु- प्रधानमंत्री मोदी

भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी सातवीं बार अमेरिका के दौरे पर हैं। उन्होंने उपराष्ट्रपति कमला हैरिस ने कोरोना काल में आपसी सहयोग की सराहना की। प्रधानमंत्री मोदी ने प्रवासी भारतीयों को दोनों देशों के बीच सेतु बताया।

Monika MinalFri, 24 Sep 2021 02:03 AM (IST)
भारत-अमेरिका संबंध और मजबूत होंगे : मोदी

वाशिंगटन, प्रेट्र। प्रधानमंत्री के रूप में अपने सात वर्ष के कार्यकाल में सातवीं बार अमेरिका की यात्रा पर पहुंचे नरेन्द्र मोदी ने गुरुवार को उपराष्ट्रपति कमला हैरिस से पहली बार मुलाकात की। अमेरिका के उपराष्ट्रपति का पद संभालने के बाद हैरिस ने इससे पहले प्रधानमंत्री से फोन पर बात की थी। मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि दोनों देशों के बीच सहयोग लगातार बढ़ रहा है और दोनों देशों के बीच संबंध और मजबूत होंगे। प्रधानमंत्री  मोदी क्वाड (अमेरिका, भारत, जापान एवं आस्ट्रेलिया) शिखर बैठक में हिस्सा लेंगे।

हैरिस से मुलाकात में प्रधानमंत्री ने कोरोना की दूसरी लहर के दौरान अमेरिका की ओर की गई मदद के लिए धन्यवाद दिया और कहा कि अमेरिका ने इस दौरान सच्चे मित्र की तरह मदद की। साथ ही कोरोना और जलवायु परिवर्तन के मामले में कदम उठाने के लिए अमेरिका की सराहना की। उन्होंने कहा कि अमेरिका ने काफी कम समय में अहम उपलब्धियां हासिल की हैं। दोनों नेताओं ने रणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने और आपसी व वैश्विक हितों के विभिन्न मसलों पर भी चर्चा की।

भारतीय मूल की कमला हैरिस के साथ मुलाकात में प्रधानमंत्री ने कहा कि प्रवासी भारतीय दोनों देशों के बीच सेतु की तरह हैं। इससे पहले उन्होंने ट्वीट कर कहा था कि दुनियाभर में प्रवासी भारतीयों ने जिस तरह अपनी विशिष्ट पहचान बनाई है, वह सराहनीय है और हमारे लोग हमारी ताकत हैं। प्रधानमंत्री ने हैरिस को भारत आने का न्योता भी दिया। वहीं, अमेरिकी उपराष्ट्रपति ने भारत को अमेरिका का बेहद अहम साझीदार करार दिया और वैक्सीन का निर्यात बहाल करने की भारत की घोषणा का स्वागत किया।

मालूम हो कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद भारत ने कोरोना वैक्सीन का निर्यात रोक दिया था। हैरिस ने कहा कि कोरोना से निपटने में भारत ने अहम भूमिका निभाई है। अमेरिका को भारत के साथ सहयोग करने पर गर्व है। उन्होंने कहा कि दुनिया में लोकतंत्र खतरे में है, दोनों देशों को इसे बचाने के लिए मिलकर काम करना चाहिए।

इससे पहले बुधवार को वाशिंगटन पहुंचने पर प्रधानमंत्री का भारतवंशियों ने जोरदार स्वागत किया। उनका विमान जैसे ही एंड्रयू ज्वाइंट एयरफोर्स बेस पर उतरा, बाइडन प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारियों और अमेरिका में भारतीय राजदूत तरनजीत सिंह संधू ने उनका स्वागत किया। सुबह से हो रही भारी बारिश के बावजूद प्रधानमंत्री का स्वागत करने के लिए बड़ी संख्या में भारतीय-अमेरिकी हवाई अड्डे पर मौजूद थे। होटल पहुंचने पर मोदी ने समुदाय के सदस्यों के साथ बातचीत भी की। बाद में प्रधानमंत्री ने ट्वीट कर गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए भारतीय समुदाय को धन्यवाद दिया। साथ ही भारतीय-अमेरिकी सीईओ के साथ अपनी बातचीत की तस्वीरें भी साझा कीं।

बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी की विदेश यात्राओं में प्रवासी भारतीयों की सभा का कार्यक्रम जरूर होता है, लेकिन कोरोना महामारी की वजह से इस बार बड़ी सभा के आयोजन की संभावना काफी कम है। दरअसल, मोदी भारतीय-अमेरिकी समुदाय में खासे लोकप्रिय हैं जो अमेरिका की कुल आबादी का करीब 1.2 फीसद है। लेकिन अमेरिका की राजनीति समेत विभिन्न क्षेत्रों में समुदाय अहम भूमिका निभा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.