राष्‍ट्रपति बाइडन ने फिर पलटा ट्रंप का फैसला, भारतीयों को मिलेगा इससे बड़ा फायदा, जानें- क्‍या

एच-1बी वाजा को लेकर बाइडन का बड़ा फैसला

राष्‍ट्रपति बाइडन ने पूर्व राष्‍ट्रपति ट्रंप का एक और फैसला पलटते हुए एच-1बी वीजाधारकों के परिजनों को अमेरिका में काम करने का अधिकार दे दिया है। इसके साथ ही वो ओबामा केयर की योजना दोबारा शुरू करने वाले हैं।

Publish Date:Thu, 28 Jan 2021 10:39 AM (IST) Author: Kamal Verma

वाशिंगटन (रॉयटर्स)। अमेरिकी राष्‍ट्रपति जो बाइडन पद संभालने के बाद से ही ताबड़तोड़ फैसले ले रहे हैं। इसी फहरिस्‍त में उन्‍होंने भारतीयों को भी एक नई सौगात दी है। ये सौगात भारतीय दंपत्तियों के लिए है। दरअसल, राष्‍ट्रपति बाडइन ने उन भारतीय दंपत्तियों को अमेरिका में काम करने की इजाजत दे दी है जिनके पास एच-1 बी वीजा हासिल है। ये फैसला इसलिए खास है क्‍योंकि इस आदेश पर हस्‍ताक्षर के साथ ही उन्‍होंने पूर्व राष्‍ट्रपति डोलाल्‍ड ट्रंप का इस बारे में दिया आदेश पलट दिया है। ट्रंप ने अपने फैसले केा सही बताते हुए इसको अमेरिकी हित में लिया गया बड़ा फैसला करार दिया था। उनके मुताबिक वो देश की नौकरियों को अमेरिकियों को सौंपना चाहते थे। इसलिए उन्‍होंने ये फैसला लिया था। उनका ये भी कहना था कि ये तभी संभव है जब विदेशियों को इससे रोका जाएगा।

आपको यहां पर ये भी बता दें कि एच-1 बी वीजाधारकों को के जीवनसाथियों को अमेरिका में काम करने की इजाजत देने का फैसला पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा ने लिया था। इसको राष्‍ट्रपति ट्रंप ने अमेरिका के हित में न बताते हुए पलट दिया था। अब एक बार फिर से ट्रंप के आदेश को पलटते हुए पुरानी व्‍यवस्‍था को लागू किया गया है। आपको यहां पर ये भी बता दें कि बराक ओबामा प्रशासन में जो बाइडन उपराष्‍ट्रपति की भूमिका में थे। आपको यहां पर ये भी बताना जरूरी है कि एच-1 बी वीजा केवल धारकों के जीवनसाथियों को ही दिया जाता है। इसको पाने में भारतीय महिलाएं सबसे आगे हैं। एच-4 वीजा और एच-1 बी वीजा धारकों के परिवार के सदस्‍यों के लिए जारी किया जाता है। ये वीजा पाने वाले अधिकतर भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स हैं।

राष्‍ट्रपति बाइडन ने इसके साथ एक और बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले में उन्‍होंने ओबामा केयर स्‍कीम को दोबारा लागू करने का फैसला लिया है। इसको भी पूर्व राष्‍ट्रपति बराक ओबामा ने शुरू किया था जिसको ट्रंप ने गैर जरूरी और नुकसानदेय बताते हुए अपने कार्यकाल में बंद कर दिया था। इस फैसले के लागू होने के बाद अमेरिकियों को एक बार फिर से स्‍वास्‍थ्‍य बीमा का कवच हासिल हो सकेगा। आपको बता दें किओबामा प्रशासन के दौरान लिए गए इस फैसले में करीब ढाई करोड़ लोग लाभांवित हुए थे। इस योजना के अंतर्गत सब्सिडी के आधार पर निजी स्‍वास्‍थय बीमा दिया जाता था।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.