Ancient Footprints: 23,000 साल पुराने मानव पदचिह्न मिले, इस तरह हुई खोज

अमेरिकी महाद्वीप में मानव (होमो सैपियंस) बर्फ पिघलने के बाद सबसे पहले करीब 13 से 16 हजार साल पहले पहुंचे थे। अब जो नए पदचिह्न प्राप्त हुए हैं वो 23000 साल पुराने हैं। इससे इतिहास की कई परतें खोली जा सकती हैं।

Sanjay PokhriyalSat, 25 Sep 2021 01:58 PM (IST)
इसे एक बड़ी उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है।

वाशिंटन, एपी। अमेरिका के न्यू मेक्सिको में व्हाइट सैंड नेशनल पार्क में 23,000 साल पुराने मानव पदचिह्न मिले हैं। इससे मानव विकास के अध्ययन में और मदद मिलेगी। यूएस की साइंस पत्रिका में छपी रिपोर्ट के अनुसार, यह पदचिह्न काफी पहले सूख चुकी एक झील के किनारे मिट्टी में पाए गए हैं। इनमें बच्चों और किशोरों के चिह्न अधिक हैं। इनसे पता चलता है कि हिम युग के अंत सेपहले उत्तरी अमेरिका में मानव सभ्यता थी। शोधकर्ताओं को झील के आसपास से मैमथ, भेड़िए और विशालकाय स्लाथ के पदचिह्न भी मिले हैं।

यह भी आया सामने : पुरातत्वविदों का कहना है कि पैरों के निशानों से यह भी पता चलता है कि 40 हजार साल पहले शुरू हुए ऊपरी पुरापाषाणकाल में इंसानी जीवन कैसा था। वहीं, कई विशेषज्ञों का मानना है कि एशिया से लोग अमेरिका गए थे। वे जमीन के रास्ते बेरिंग स्ट्रेट से होते हुए वहां पहुंचे थे। यह स्ट्रेट अब पानी के नीचे है और अलास्का और रूस के बीच बेरिंग सागर बनाता है। हालांकि, इससे पहले करीब 33 हजार साल पहले शुरू होकर 16 हजार साल पहले तक रहे हिमयुग में यह रास्ता ग्लेशियर्स से बंद था।

इस तरह की खोज : ब्रिटेन और अमेरिका के पुरातत्वविदों ने अलकाली फ्लैट नाम की सूखी हुई झील में इंसानी पैरों के निशान के आधार पर यह खोज की है। व्हाइट सैंड नेशनल पार्क में ये निशान मिट्टी में मिले। अमेरिकी जियोलाजिकल सर्वे के विशेषज्ञों ने रेडियोकार्बन डेटिंग की मदद से ट्रैक के ऊपर और नीचे की परतों का अध्ययन किया और पाया कि करीब दो हजार साल के दौरान यहां पैरों के निशान बने। सबसे पुराने निशान 23 हजार साल पहले के हैं। इस दौरान उत्तरी अमेरिका का ज्यादातर हिस्सा बर्फ से ढका हुआ था और समुद्रस्तर आज की तुलना में 400 फीट कम था। इसे एक बड़ी उपलब्धि के रूप में देखा जा रहा है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.