इस नए ट्रीटमेंट से ओवेरियन कैंसर के इलाज में मिलेगी मदद, ट्रायल में सामने आए पॉजिटिव रिजल्ट

अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के मुताबिक हर साल 20 हजार से ज्यादा महिलाओं में ओवेरियन कैंसर के मामले सामने आते हैं जिनमें से करीब 14 हजार महिलाएं इस बीमारी के कारण दम तोड़ देती हैं। यह महिलाओं में मौत का पांचवां कारण है।

Neel RajputSun, 13 Jun 2021 12:22 PM (IST)
महिलाओं में बढ़ रहे ओवेरियन कैंसर के मामले

वाशिंगटन, एएनआइ। महिलाओं में ओवेरियन कैंसर के मामले काफी बढ़ रहे हैं। ब्रेस्ट कैंसर और सर्वाइकल कैंसर के बाद यह तीसरा कैंसर है जो महिलाओं में इन दिनों काफी देखने को मिला है। लेकिन अब इसे लेकर एक अच्छी खबर है कि एक नए रेडियोफार्मास्युटिकल के प्रीक्लिनिकल परीक्षणों के सफल परिणाम सामने आए हैं। इस रेडियोफार्मास्युटिकल को विशेष रूप से ओवेरियन कैंसर के इलाज के लिए डिजाइन किया गया है जो पारंपरिक उपचारों के लिए प्रतिरोधी हैं। नए रेडियोफार्मास्युटिकल को कम लागत पर 25 मिनट में तैयार किया जा सकता है, जिससे वैकल्पिक तरीकों की तुलना में बेहतर प्रभाव दिखाई देते हैं।

बता दें कि जिन न्यूक्लियर मेडिसिन में रेडियोधर्मी पदार्थों का उपयोग किया जाता है उन्हें रेडियोफार्मास्युटिकल कहा जाता है। इनका उपयोग मुख्य रूप से रोग के निदान के लिए किया जाता है।

न्यूकलियर मेडिसिन एंड मोलेक्यूलर इमेजिंग 2021 की वार्षिक बैठक में यह रिसर्च पेश की गई है। अमेरिकन कैंसर सोसाइटी के मुताबिक, हर साल 20 हजार से ज्यादा महिलाओं में ओवेरियन कैंसर के मामले सामने आते हैं, जिनमें से करीब 14 हजार महिलाएं इस बीमारी के कारण दम तोड़ देती हैं। यह महिलाओं में मौत का पांचवां कारण है।

अध्ययन में शोधकर्ताओं ने HER2 पॉजिटिव डिम्बग्रंथि के कैंसर के इलाज के लिए अल्फा-थेरेपी Pb-214-TCMC-trastuzumab विकसित करने के लिए एक नई जनरेटर प्रणाली का उपयोग किया। डिम्बग्रंथि के कैंसर कोशिकाओं और डिम्बग्रंथि के कैंसर ट्यूमर से प्रभावित चूहों को तीन समूहों में विभाजित किया गया था- एक वो जिनका इलाज Pb-214-TCMC-trastuzumab से किया गया था, दूसरे वो जिनका इलाज Pb-214-TCMC-IgG और तीसरे अनुपचारित नियंत्रण समूह के साथ किया गया था। उपचार की प्रभावशीलता निर्धारित करने के लिए सभी समूहों को समय के साथ चित्रित किया गया था।

अध्ययन में कहा गया कि उपचार से कोई प्रतिकूल दुष्प्रभाव नहीं देखने को मिला है। मिशिगन के ईस्ट लांसिंग में निओवेव इंक के अध्ययन लेखक और अध्यक्ष माइक जमियारा ने कहा, 'जनरेटर सिस्टम हर घंटे पीबी-214 प्रदान कर सकता है, संभावित रूप से कम लागत पर रोगियों को अल्फा-पार्टिकल थेरेपी का एक नया स्रोत प्रदान कर सकता है। भविष्य में विकास, बेहतर रोगी देखभाल और विश्वसनीय खुराक प्रदान करने के लिए जनरेटर सिस्टम टर्न-की सिस्टम में कई चिकित्सीय उत्पादों के लिए उपलब्ध होगा।'

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.