ब्राजील में बिगड़े हालात, कुछ शहरों में नाइट कर्फ्यू, न्यूजीलैंड में बढ़ाया गया अलर्ट लेवल, ऑकलैंड में लॉकडाउन

न्‍यूजीलैंड में संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते अलर्ट का स्‍तर बढ़ा दिया गया है।

कोरोना संक्रमण के चलते ब्राजील में हालात बिगड़ने लगे हैं। वहीं अमेरिका में कोरोना संक्रमण काबू में आने के बाद कोविड जांच कम कर दी गई है जबकि न्‍यूजीलैंड में संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते अलर्ट का स्‍तर बढ़ा दिया गया है।

Krishna Bihari SinghSat, 27 Feb 2021 11:46 PM (IST)

वाशिंगटन/वेलिंगटन, एजेंसियां। कोरोना संक्रमण के चलते ब्राजील में हालात बिगड़ने लगे हैं। वहीं अमेरिका में कोरोना संक्रमण काबू में आने के बाद कोविड जांच कम कर दी गई है जबकि न्‍यूजीलैंड में संक्रमण के बढ़ते मामलों के चलते अलर्ट का स्‍तर बढ़ा दिया गया है। प्रधानमंत्री जैकिंडा अर्डर्न ने बताया कि न्यूजीलैंड में शनिवार को दो ताजा सामुदायिक मामलों की पुष्टि हुई है। न्यूजीलैंड के सबसे बड़े शहर ऑकलैंड में लॉकडाउन हटाने के बाद फिर एक हफ्ते के लिए दोबारा लॉकडाउन लगा दिया गया है।

ब्रेसीलिया में लॉकडाउन

ब्राजील के ब्रेसीलिया में 24 घंटे का लॉकडाउन लगाया गया है। कुछ शहरों में रात का कर्फ्यू भी लगा है। एक दर्जन शहर ऐसे हैं, जहां पर मरीजों के लिए अस्पतालों में बिस्तरों की कमी है। वहीं रूस में पिछले 24 घंटों में कोरोना के 11,534 नए मामले आए हैं जिससे संक्रमितों का आंकड़ा बढ़कर 4,234,720 हो गया है।

न्‍यूजीलैंड में अलर्ट के स्‍तर को बढ़ा

समाचार एजेंसी आइएएनएस ने सिन्‍हुआ के हवाले से कहा है कि न्‍यूजीलैंड में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के चलते अलर्ट के स्‍तर को बढ़ा दिया गया है। न्यूजीलैंड का सबसे बड़ा शहर ऑकलैंड में कोरोना अलर्ट लेवल एक से बढ़कर तीन कर दिया गया है जबकि अन्य जगहों पर अलर्ट लेवल दो है। हालांकि प्रधानमंत्री जैकिंडा अर्डर्न ने कहा कि न्यूजीलैंड में लोगों को जरूरी सामान खरीदने की अनुमति होगी।

अमेरिका में कोविड जांच में आई गिरावट

समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका में अब प्रति दिन होने वाली जांच में 28 फीसद तक गिरावट आई है। संक्रमण का हॉटस्पॉट बन चुके लास एंजिलिस काउंटी में महज कुछ हफ्ते पहले प्रति हफ्ते 3,50,000 से ज्यादा लोगों की कोरोना जांच हो रही थी लेकिन इसमें कमी आई है। अमेरिका में जांच अभियान का नेतृत्व करने वाले डॉ. क्लेमेंस होंग ने कहा कि यह चौंकाने वाला है कि इतनी जल्दी हम सौ मील प्रति घंटा की रफ्तार से 25 मील प्रति घंटा की स्‍पीड पर पहुंच गए हैं।

नई स्‍ट्रेन को लेकर जताई चिंता

हालांकि अमेरिकी विशेषज्ञों को कोरोना वायरस की नई स्‍ट्रेन को लेकर चिंता भी जताई है। अमेरिका के सलाहकारों ने जॉनसन एंड जॉनसन की एक डोज वाली वैक्सीन को कोरोना की महामारी से लड़ने में कारगर बताया है। फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन को भी उम्मीद है कि जॉनसन की वैक्सीन को तीसरी वैक्सीन के रूप में लगाने की अनुमति मिल जाएगी। यह वैक्सीन पहली ही डोज के बाद काम करना शुरू कर देती है।

न्यू मेक्सिको में बढ़े केस

न्यू मेक्सिको में तीन सप्ताह के बाद फिर नए मामलों में तेजी आई है। यहां पर कुल मरीजों की संख्या साढ़े अठारह लाख से ज्यादा हो गई है। रूस में एक दिन में 11 हजार से ज्यादा नए मामले सामने आ रहे हैं। कनाडा ने अपने यहां एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन को सभी वयस्कों में लगाने की मंजूरी दे दी है। फाइजर और माडर्ना के बाद यह तीसरी वैक्सीन है, जिसे मंजूरी दी गई है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.