Corona Epidemic: भारत को गावी से रियायती दर पर मिलेगी कोरोना वैक्सीन की 25 करोड़ डोज

संकट से निपटने के लिए अमीर देशों से मांगा जा सकता है वैक्सीन का दान।

कोरोना से बचाव की वैक्सीन के वितरण के लिए बने अंतरराष्ट्रीय गठबंधन गावी ने कहा है कि भारत को रियायती कीमत पर करीब 25 करोड़ वैक्सीन खुराक मिलेंगी। इस सिलसिले में भारत को तीन करोड़ डॉलर (करीब 220 करोड़ रुपये) देने होंगे।

Bhupendra SinghFri, 07 May 2021 09:47 PM (IST)

वाशिंगटन, प्रेट्र। कोरोना से बचाव की वैक्सीन के वितरण के लिए बने अंतरराष्ट्रीय गठबंधन गावी ने कहा है कि भारत को रियायती कीमत पर करीब 25 करोड़ वैक्सीन खुराक मिलेंगी। इस सिलसिले में भारत को आवश्यक तकनीक बंदोबस्त और कोल्ड चेन बनाने के लिए तीन करोड़ डॉलर (करीब 220 करोड़ रुपये) देने होंगे। इस बाबत फैसला बीते दिसंबर महीने में कोवैक्स बोर्ड द्वारा लिया जा चुका है।

कोविड के खतरे के चलते 2020 में गरीब देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए गावी का गठन हुआ था

दुनिया पर कोविड के खतरे को देखते हुए 2020 में गरीब और मध्यम आय वाले देशों को वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए ग्लोबल अलायंस फॉर वैक्सींस एंड इम्युनाइजेशन (गावी) का गठन हुआ था। इसमें सरकार और निजी क्षेत्र, दोनों की भागीदारी है।

गावी के प्रवक्ता ने कहा- गठबंधन भारत को पूरी मदद के लिए तैयार

गावी के प्रवक्ता ने कहा है कि मौजूदा मुश्किल दौर में गठबंधन भारत को पूरी मदद के लिए तैयार है। कोवैक्स बोर्ड के फैसले के अनुसार भारत को कुल उपलब्ध वैक्सीन की मात्रा में से 20 प्रतिशत दी जाएंगी। खुराकों के लिहाज से यह संख्या 19 करोड़ से 25 करोड़ के बीच बनेगी। प्रवक्ता ने कहा है कि भारत दुनिया का प्रमुख वैक्सीन उत्पादक और आपूर्तिकर्ता देश है, लेकिन इस समय भीषण कोरोना संक्रमण की स्थिति में उसकी आपूर्ति व्यवस्था मुश्किल में फंसी हुई है।

अमेरिका वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए हर संभव देगी मदद, गावी ने किया स्वागत

कोवैक्स की वर्ष की दूसरी तिमाही की वैक्सीन आपूर्ति भारत की कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट के भरोसे है, लेकिन इस समय वह खुद भारत की जरूरतों को पूरा करने में लगी हुई है। इससे बाकी दुनिया के लिए वैक्सीन की मात्रा में कमी हो सकती है। इस कमी को पूरा करने के लिए कोवैक्स अमीर देशों से वैक्सीन का दान मांग सकती है। गावी ने अमेरिकी सरकार की इस घोषणा का स्वागत किया है कि वह कोरोना से बचाव की वैक्सीन उपलब्ध कराने के लिए हर संभव मदद देगी।

भारतीय डॉक्टरों ने अमेरिकी सरकार से किया मदद का अनुरोध

भारत पर आए करोनो संक्रमण के संकट के मद्देनजर अमेरिका में रह रहे भारतीय मूल के डॉक्टरों ने बाइडन प्रशासन से तीन करोड़ एस्ट्राजेनेका वैक्सीन खुराकों को अविलंब भारत को देने का अनुरोध किया है। ये वे वैक्सीन खुराक हैं जिन्हें अमेरिकी सरकार ने खरीद लिया था, लेकिन बाद में अमेरिकी कंपनियों की वैक्सीन की पर्याप्त आपूर्ति के चलते इस्तेमाल नहीं किया। भारतीय डॉक्टरों की सबसे बड़ी संस्था द अमेरिकन एसोसिएशन ऑफ फिजीशियन ऑफ इंडियन ऑरिजिन ने अमेरिका के सभी 100 सीनेटरों को पत्र लिखकर अनुरोध किया है कि वे भारत की सहायता बढ़ाने के लिए प्रयास करें। संस्था ने अमेरिकी राष्ट्रपति से भी भारत की हर संभव मदद का अनुरोध किया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.