छोटे बच्चों को दुग्ध उत्पादों में फैट की मात्रा से नहीं पड़ता फर्क, जानें क्या कहता है नया शोध

ईसीयू में एसोसिएट प्रोफेसर थेरेस ओसुल्लीवान के नेतृत्व में शोधकर्ताओं की एक टीम ने बच्चों पर फुल फैट डेयरी उत्पादों को दिए जाने पर उसके असर को लेकर अध्ययन किया है। इस क्रम में चार से छह वर्ष तक के 49 स्वस्थ बच्चों को औचक ही चुन लिया गया।

Neel RajputThu, 02 Dec 2021 03:40 PM (IST)
फैट की मात्रा का कार्डियोवस्कुलर स्वास्थ्य पर नहीं होता है असर

जोंडालुप (आस्ट्रेलिया), एएनआइ। दूध या दुग्ध उत्पादों में फैट की मात्रा उसकी गुणवत्ता का एक पैमाना माना जाता है। लेकिन एडिथ कोवान यूनिवर्सिटी (ईसीयू) के शोधकर्ताओं ने पाया है कि जब बात छोटे बच्चों की हो तो पूरे वसा वाला दूध भी उतना ही अच्छा है, जितना कि कम वसा वाला दूध। यह शोध निष्कर्ष अमेरिकन जर्नल आफ क्लिनिकल न्यूटिशन में प्रकाशित हुआ है।

ईसीयू में एसोसिएट प्रोफेसर थेरेस ओसुल्लीवान के नेतृत्व में शोधकर्ताओं की एक टीम ने बच्चों पर फुल फैट डेयरी उत्पादों को दिए जाने पर उसके असर को लेकर अध्ययन किया है। इस क्रम में चार से छह वर्ष तक के 49 स्वस्थ बच्चों को औचक ही चुन लिया गया। उन्हें तीन महीने तक रोजाना नियमित आहार में या तो फुल फैट या लो-फैट डेयरी उत्पाद दिए गए। ये डेयरी उत्पाद उन्हें हर पखवाड़े नि:शुल्क दिए ताकि उसकी उपलब्धता बराबर सुनिश्चित की जा सके। इनमें से किसी ग्रुप को नहीं मालूम था कि उन्हें पूरे या कम फैट वाले डेयरी उत्पाद दिए जा रहे हैं। इतना ही नहीं, बचा हुआ उत्पाद वापस भी लिया गया, ताकि यह पता चल सके कि बच्चों ने कितना खाया।

इस तरह डेयरी उत्पादों के उपभोग के आधार पर शोधकर्ताओं ने पहली बार बच्चों में मोटापा, शरीर की संरचना (बाडी कंपोजिशन), ब्लड प्रेशर तथा ब्लड बायोमाकर्स का विस्तृत विश्लेषण किया है। इसमें पाया गया कि बच्चों ने चाहे पूरा या कम फैट का डेयरी उत्पाद लिया हो, लेकिन दोनों ही ग्रुपों ने बराबर मात्रा में कैलोरी ली। हालांकि जिन बच्चों ने कम फैट वाला डेयरी उत्पाद लिया, उन्होंने स्वाभाविक तौर पर दूसरे खाद्य या पेय पदार्थो से कैलोरी के अंतर की भरपाई की।

प्रोफेसर ओसुल्लीवान ने बताया कि यह निष्कर्ष बताता है कि दोनों ही ग्रुपों के बच्चों में मोटापा या कार्डियोवस्कुलर स्वास्थ्य के मामले में कोई फर्क नहीं था। उन्होंने बताया, पहले यह माना जाता रहा है कि छोटे बच्चों को कम फैट वाले डेयरी उत्पादों से लाभ होगा, क्योंकि उनके सैचरेटिड फैट के कम स्तर और ऊर्जा के कम घनत्व के कारण मोटापे से बचने और संबंधित कार्डियोमेटाबोलिक रोगों के जोखिम कम करने में मदद मिलेगी।

उन्होंने बताया कि हमारे अध्ययन के निष्कर्ष बताते हैं कि स्वस्थ बच्चे पूरे फैट वाले डेयरी उत्पाद सुरक्षित तरीके से पचा लेते हैं और उससे उनमें मोटापा या कार्डियोमेटाबोलिक संबंधी दुष्प्रभाव नहीं होता है। इसलिए, जरूरी है कि दो साल या इससे अधिक उम्र के बच्चों के लिए डायट के दिशानिर्देश को लेकर ताजा निष्कर्ष के आधार पर पुनर्विचार किया जाना चाहिए। आहार विशेषज्ञ और शोधकर्ता एनालिस निकोल का कहना है कि इससे माता-पिता के लिए बच्चों के खान-पान के मामले में आसानी हो जाएगी। साथ ही बच्चों को भी अपने पसंदीदा डेयरी उत्पाद चुनने की छूट मिल सकेगी।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.