ट्विटर हैकिंग के आरोपित ने खुद को बताया बेकसूर, 17 साल के ग्राहम इवान क्लार्क की हुई पेशी

ट्विटर हैकिंग के आरोपित ने खुद को बताया बेकसूर, 17 साल के ग्राहम इवान क्लार्क की हुई पेशी

इस मामले में ब्रिटेन के बोगनोर रेजीज के रहने वाले 19 साल के मैसन शेपर्ड और ओरलैंडो के 22 साल के नीमा फैजेली को भी आरोपित बनाया गया है।

Publish Date:Wed, 05 Aug 2020 07:26 AM (IST) Author: Shashank Pandey

टंपा (अमेरिका), एजेंसियां। राजनीति, फिल्म और उद्योग जगह से जुड़े नामचीन लोगों के ट्विटर अकाउंट को हैक करने वाले अमेरिका के फ्लोरिडा निवासी किशोर ने खुद को बेकसूर बताया है। तकरीबन एक लाख डॉलर (लगभग 70 लाख रुपये) से अधिक के बिटक्वाइन घोटाले के आरोपी 17 साल के ग्राहम इवान क्लार्क की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए कोर्ट में पेशी हुई है। उसके खिलाफ निजी जानकारियां चुराने और धोखाधड़ी समेत कई आरोप लगाए गए हैं। उसकी जमानत के बांड को लेकर बुधवार को सुनवाई होनी है।

क्लार्क को शुक्रवार को गिरफ्तार किया गया था। क्लार्क के साथ ही ब्रिटेन के बोगनोर रेजीज के रहने वाले 19 साल के मैसन शेपर्ड और ओरलैंडो के 22 साल के नीमा फैजेली को भी आरोपित बनाया गया है। पिछले महीने की 15 तारीख को पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा, अमेरिका राष्ट्रपति पद के संभावित प्रत्याशी जो बिडेन, अमेजन के सीईओ जेफ बेजोस, माइक्रोसाफ्ट के सह संस्थापक बिल गेट्स, टेस्ला के सीईओ एलन मस्क समेत दुनिया भर के कई नेताओं और नामचीन हस्तियों के ट्विटर अकाउंट को हैक कर लिया गया था। इनके अकाउंट से लोगों को फर्जी ट्वीट किए गए थे और उनसे एक गुप्त बिटक्वाइन खाते में एक हजार डॉलर जमा करने पर दो हजार डॉलर वापस करने का वादा किया गया था।

इस तरह दिया हैकिंग को अंजाम

अभियोजकों के दस्तावेज के अनुसार, क्लार्क ने ट्विटर के एक ऐसे कर्मचारी के साथ मिलीभगत की थी, जो इस कंपनी के टेक्नोलॉजी विभाग में काम करता था। इस तरीके से हैकर ट्विटर के इंटरनल सिस्टम तक पहुंच बनाने के साथ करीब 130 अकाउंटों में सेंध लगाने में सफल हो गए। हैकरों ने दिग्गजों के ट्विटर अकाउंट से लोगों को भेजे गए फर्जी ट्वीट में कहा कि अगर अनाम बिटकॉइन पते पर एक हजार डॉलर (करीब 75 हजार रुपये) भेजते हैं तो बदले में दो हजार डॉलर मिलेंगे। इस झांसे में कई लोग फंस भी गए थे।

पहले से रखी जा रही थी नजर

दस्तावेज के मुताबिक, संघीय अधिकारी 17 साल के क्लार्क की ऑनलाइन गतिविधियों को लेकर उस पर पहले से ही नजर रख रहे थे। खुफिया विभाग ने गत अप्रैल में उसके पास से सात लाख डॉलर मूल्य के बिटकॉइन बरामद किए थे।

हैकिंग की ली थी जिम्मेदारी

हैकिंग की घटना के दो दिन बाद किर्क नामक हैकर सामने आया था। उसने न्यूयॉर्क टाइम्स अखबार के साथ कई स्क्रीनशॉट साझा कर हैकिंग को अंजाम देने का दावा किया था। स्क्रीनशॉट में हैकिंग को अंजाम देने के दौरान चार लोगों के बीच हुई ऑनलाइन बातचीत का ब्योरा था। किर्क ने यह साबित भी किया था कि वह महत्वपूर्ण ट्विटर अकाउंट को भी नियंत्रित कर सकता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.