जनरल रावत के मौत से ममता बनर्जी आहत

-अंडा उत्पाद में बंगाल को स्वनिर्भर होना होगा प्रति माह 270 करोड़ का अंडा बंगाल में आता

JagranWed, 08 Dec 2021 07:17 PM (IST)
जनरल रावत के मौत से ममता बनर्जी आहत

-अंडा उत्पाद में बंगाल को स्वनिर्भर होना होगा, प्रति माह 270 करोड़ का अंडा बंगाल में आता है

-रोजगार में बंगालवासियों को मिलेगी पहली प्राथमिकता

संवाद सूत्र,मालदा: चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ(सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के बुधवार को हेलिकॉप्टर क्रेश होने से उनकी मौत की सूचना से मुख्यमंत्री ममता बनर्जी काफी आहत हुई। बुधवार को मुख्यमंत्री मालदा कॉलेज के ऑडिटेरियम में प्रशासनिक समीक्षा बैठक को संबोधित कर रही थी। अचानक इस बुरी खबर की सूचना मिलते ही उन्होंने प्रशासनिक बैठक को बीच में ही रोकते हुए दुख प्रकट किया। समय से पूर्व उन्होंने बैठक की समाप्ति की घोषणा की। उन्होंने कहा कि यह देश की सबसे बड़ी क्षति है। इस बैठक में मालदा के आठ तृणमूल विधायक, जिला परिषद के 34 सदस्य, 15 पंचायत समिति के सभापति सहित इंगलिश बाजार तथा पुरातन प्रशासक मंडली सदस्य उपस्थित थें। मुख्यमंत्री ने जनरल बिपिन रावत के मौत से आहत होकर मात्र डेढ़ घंटे में प्रशासनिक बैठक रोक दी। प्रशासनिक बैठक में राज्य के मुख्य सचिव हरिकृष्ण त्रिवेदी, बीपी गोपालिका, राज्य मंत्री सबिना यास्मिन सहित विभिन्न अधिकारी व मंत्री मौजूद थे।

218 करोड़ 58 लाख के 38 परियोजनाओं का उद्घाटन : मुख्यमंत्री ममता बनर्ती ने आज प्रशासनिक बैठक के दौरान 218 करोड़ 58 लाख के लागत के 38 परियोजनाओं का उद्घाटन किया। साथ ही 396 कारोड़ 69 लाख के लागत के 59 परियोजनाओं का शिलान्यास किया। उन्होंने प्रशासनिक समीक्षा बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि बंगला मानुष को बंगाल के रोजगार क्षेत्रों पर विशेष अधिकार देना होगा। दूसरे राज्यों में नौकरी के क्षेत्र में वहां के निवासियों को पहली प्राथमिकता मिलती है। ऐसे में पश्चिम बंगाल के बंगला भाषा-भाषी को उनका अधिकार क्यों नहीं

अंडा उत्पादन में स्वनिर्भर होना होगा: मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि प्रति माह 270 करोड़ का अंडा बाहरी राज्यों से आता है। हमें अंडा उत्पादन में स्वनिर्भर होना होगा। इससे युवाओं को रोजगार मिल सकता है। मालदा में सबसे पहले पूरे व्यवस्थित रूप में अंडा उत्पादन केंद्र खोला जाएगा। 80 एकड़ जमीन पर पोल्ट्री फार्म राज्य सरकार ने तैयार किया है। साथ ही 100 दिन के रोजगार योजना के तहत राज्य सरकार की मुख्य भूमिका रही है। यहां 16 लाख कर्म दिवस तैयार किया जाएगा। तांत उद्योग को व्यवस्थित करना होगा : राज्य में रोजगार के लिए मुख्यमंत्री पूरे प्रशासनिक बैठक में फोकस देती देखी गयी। उन्होंने कहा कि तांत शिल्प को फिर विकसित करने के लिए हमें प्रयास करना होगा। मालदा में 14 एकड़ जमीन पर तांत व पावरलूम बनाने को दीदी ने परामर्श दिया। जरूरत हुई तो और सात एकड़ जमीन दिया जाएगा। मखाना की खेती के लिए देना होगा प्रशिक्षण : मालदा में मखाने की खेती के लिए भी अच्छी संभावना है। इसके लिए कृषकों को प्रशिक्षित करना होगा। मालदा मर्चेट चेंबर ऑफ कामर्स के साथ मिलकर हम काम करेंगे इस उद्योग के लिए दूसरे राज्य के श्रमिक आकर इसकी खेती कर रहें है।

कैप्शन : मालदा में प्रशासनिक समीक्षा बैठक को संबोधित करती मुख्यमंत्री ममता बनर्जी

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.