दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

कोरोना काल में राहत भरी खबर, कोलकाता में शुरू होने जा रहा कोरोना के सिंगल डोज वाले टीके का क्लीनिकल ट्रायल

इस टीके को जॉनसन एंड जॉनसन ने किया है विकसित

बंगाल में कोरोना के दिन-ब-दिन बढ़ते प्रकोप के बीच एक राहत वाली खबर है। कोलकाता में जल्दी कोरोना के सिंगल डोज वाले टीके का क्लिनिकल ट्रायल शुरू होने जा रहा है। इस टीके को जॉनसन एंड जॉनसन ने विकसित किया है।

Vijay KumarSat, 08 May 2021 03:57 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल में कोरोना के दिन-ब-दिन बढ़ते प्रकोप के बीच एक राहत वाली खबर है। कोलकाता में जल्दी कोरोना के सिंगल डोज वाले टीके का क्लिनिकल ट्रायल शुरू होने जा रहा है। इस टीके को जॉनसन एंड जॉनसन ने विकसित किया है। सब कुछ ठीक रहा तो अगले दो हफ्ते के अंदर इसका क्लिनिकल ट्रायल शुरू हो जाएगा। कोलकाता में पीयारलेस अस्पताल में क्लिनिकल ट्रायल होगा।

इसके अलावा देश के पांच अन्य स्थानों पर भी क्लिनिकल ट्रायल किया जाएगा। 100 वोलेंटियरों को लेकर क्लिनिकल ट्रायल शुरू किया जाएगा। गौरतलब है कि कोलकाता में अभी कोरोना के डबल डोज वाले टीके का टीकाकरण चल रहा है। जॉनसन एंड जॉनसन के टीके के सफलतापूर्वक क्लिनिकल ट्रायल के बाद अब दो टीका लगाने की जरूरत नहीं पड़ेगी। एक टीके से ही शरीर में कोरोना वायरस से लड़ने की क्षमता तैयार हो जाएगी। कोरोना के डबल डोज वाले टीके का पहला डोज लगाने के बाद दूसरे डोज का अभाव देखा जा रहा है इसलिए जॉनसन एंड जॉनसन के सिंगल डोज टीके  पर सबकी नजर टिकी हुई है।सिंगल डोज वाले इस टीके को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की जॉनसन एंड जॉनसन के अधिकारियों के साथ कई बार बातचीत हो चुकी है। पूर्वी भारत में कोलकाता एकमात्र ऐसा शहर है, जहां इस टीके का क्लिनिकल ट्रायल होने जा रहा है।

अब दवा की पर्ची दिखाने पर ही विटामिन की गोलियां दी जा सकेगी

कोलकाता : बहुत से लोगों ने अपने घरों में विटामिन की दवाइयों का स्टॉक कर रखा है, जिसके कारण उन लोगों को विटामिन की गोलियां आसानी से नहीं मिल पा रही है, जो सही मायने में जरूरतमंद है। इस स्थिति को देखते हुए राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने निर्देशिका जारी की है, जिसके मुताबिक अब दवा की पर्ची दिखाने पर ही विटामिन की गोलियां दी जा सकेगी।

गिरीश पार्क इलाके के एक दवा विक्रेता ने बताया-'लोग विटामिन की गोलियों का पूरा पैकेट खरीदकर ले जा रहे हैं। हम किसी को मना नहीं कर सकते। कोरोना के कारण इस समय दवाओं की आपूर्ति पहले के मुकाबले कम है। निर्देशिका जारी होने के बाद अब हम पर्ची देखकर ही विटामिन की गोलियां देंगे।'

सिर्फ विटामिन की गोलियां ही नहीं, सरकार ने बिना पर्ची के सांस संबंधी बीमारियों की दवाओं की बिक्री पर भी रोक लगा दी है। चिकित्सकों ने राज्य सरकार की इस पहल का स्वागत किया है।उनका कहना है कि यह कदम  बेहद जरूरी था। कोरोना से भयभीत होने की नहीं बल्कि सतर्क रहने की जरूरत है। बेवजह जरूरत से ज्यादा दवाइयों का संग्रह करने से जरूरतमंदों के लिए दवाइयों का अभाव हो सकता है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.