कोलकाता से पीएम की वापसी में प्रोटोकॉल का पालन नहीं,‌ विदा करने के लिए एयरपोर्ट पर मौजूद नहीं थे राज्य के कोई मंत्री व अधिकारी

कोलकाता के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वापसी

Protocol PM modi kolkata visit विदा करने के लिए एयरपोर्ट पर मौजूद नहीं थे राज्य के कोई मंत्री व अधिकारी। कोलकाता के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वापसी के दौरान राज्य सरकार की ओर से प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया।

Publish Date:Sun, 24 Jan 2021 08:48 AM (IST) Author: PRITI JHA

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। बंगाल और केंद्र सरकार के बीच जारी टकराव के मद्देनजर शनिवार को नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के मौके पर कार्यक्रम में हिस्सा लेने कोलकाता के दौरे पर आए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वापसी के दौरान राज्य सरकार की ओर से प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया गया।

जानकारी के मुताबिक, प्रधानमंत्री को विदा करने के लिए कोलकाता एयरपोर्ट पर राज्य के कोई भी मंत्री व अधिकारी मौजूद नहीं थे। बताया जा रहा है कि राज्य के शहरी विकास मंत्री व कोलकाता नगर निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम को पीएम को विदा करने के लिए आना था, लेकिन वह हेलीपैड पर देरी से पहुंचे। इसके बाद हकीम गाड़ी से उतरे बगैर ही वापस लौट गए। वहीं, राज्य के मुख्य सचिव अलापन बंधोपाध्याय भी देरी से पहुंचे, तब तक पीएम विमान में बैठ चुके थे।

गौरतलब है कि इससे पहले शाम में विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में नेताजी जयंती पर पराक्रम दिवस समारोह के दौरान उस समय अजीब स्थिति पैदा हो गई जब जय श्रीराम का नारा लगाए जाने से नाराज होकर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने‌ बिना भाषण दिए ही वापस आकर बैठ गईं। दरअसल ममता को जब भाषण के लिए मंच पर बुलाया गया उसी दौरान वहां मौजूद भाजपा कार्यकर्ताओं ने जय श्रीराम का नारा लगाना शुरू कर दिया, जिससे ममता भड़क गई। इसके बाद उन्होंने नाराजगी जाहिर करते हुए पीएम सहित वहां मौजूद अन्य विशिष्ट लोगों के सामने कहा कि सरकारी कार्यक्रम का एक सम्मान होना चाहिए। किसी को कार्यक्रम में बुलाकर बेइज्जती करना ठीक नहीं है। इसके बाद राज्य सरकार की ओर से प्रधानमंत्री के प्रोटोकॉल की अवहेलना की गई।

भाजपा नेता सुवेंदु अधिकारी ने पैर छूकर पीएम मोदी से लिया आशीर्वाद

विक्टोरिया मेमोरियल हॉल में पराक्रम दिवस समारोह में तृणमूल कांग्रेस छोड़कर भाजपा में शामिल होने वाले कद्दावर नेता सुवेंदु अधिकारी ने पीएम मोदी का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। पीएम मोदी ने उनकी प्रशंसा भी की।

और नेताजी के बिस्तर को देख भावुक हुए पीएम

जानकारी हो कि वीर सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती पर कोलकाता पहुंचे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचाकन एल्गिन रोड स्थित नेताजी के पैतृक आवास पर पहुंचे जहां उनके इस्तेमाल किए हुए हर सामान को देखा और गहनता से जानकारी ली। जब पीएम मोदी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस का बिस्तर देखा तो वह भावुक हो उठे। पीएम मोदी ने वहां माथा टेकते हुए हाथ जोड़े और बोस को नमन किया।  उनके साथ नेताजी के परपोते व नेताजी रिसर्च ब्यूरो के प्रमुख सुगतो बोस थे जो उन्हें हर चीजों के बारे में जानकारी दी। पहले पीएम का नेताजी भवन जाने का कार्यक्रम तय नहीं था।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नेताजी भवन में नेताजी सुभाष चंद्र बोस से जुड़ी तस्वीरों को देखा। पीएम मोदी ने उनकी तस्वीरों को देखकर हाथ जोड़कर उन्हें नमन किया। इस दौरान पीएम मोदी के साथ पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ भी मौजूद रहे। नेताजी भवन में आज भी 1937 मॉडल की वह खूबसूरत जर्मन वांडरर सीडान कार खड़ी है जो उनके गुप्त तरीके से जर्मनी पहुंचने की मूक साक्षी रही है। इसे भी पीएम ने देखा। बोस वर्ष 1941 में एल्गिन रोड से फरार होकर झारखंड के गोमोह रेलवे स्टेशन पहुंचे थे और यहां से वह जर्मनी पलायन कर गए थे। ऐसा कहा जाता है कि नेताजी ऑडी कार रखने वाले देश के पहले व्यक्ति थे। इस के बाद पीएम मोदी ने नेशनल लाइब्रेरी का दौरा किया और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की प्रतिमा को पुष्प अर्पित किए और चार हजार मीटर कैनवस पर उकेरी गई नेताजी के पूरे जीवन की तस्वीरों को उकेरा गया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.