अब सीबीआइ व ईडी को तलब करेगी विशेषाधिकार कमेटी, स्पीकर के बुलावे पर सीबीआइ व ईडी अफसरों के नहीं आने का मामला

बंगाल विधान सभा (विस) की विशेषाधिकार कमेटी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) और प्रवर्तन निदेशालय ( ईडी) को तलब करने की तैयारी शुरू कर दी है। इस बाबत कमेटी ने गुरुवार से आवश्यक कार्रवाई भी शुरू कर दी है।

Vijay KumarPublish:Thu, 25 Nov 2021 07:40 PM (IST) Updated:Thu, 25 Nov 2021 07:40 PM (IST)
अब सीबीआइ व ईडी को तलब करेगी विशेषाधिकार कमेटी, स्पीकर के बुलावे पर सीबीआइ व ईडी अफसरों के नहीं आने का मामला
अब सीबीआइ व ईडी को तलब करेगी विशेषाधिकार कमेटी, स्पीकर के बुलावे पर सीबीआइ व ईडी अफसरों के नहीं आने का मामला

राज्य ब्यूरो, कोलकाता: बंगाल विधान सभा (विस) की विशेषाधिकार कमेटी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) और प्रवर्तन निदेशालय ( ईडी) को तलब करने की तैयारी शुरू कर दी है। इस बाबत कमेटी ने गुरुवार से आवश्यक कार्रवाई भी शुरू कर दी है। स्पीकर बिमान बनर्जी के तलब करने पर उपस्थित नहीं होने को लेकर पिछले सप्ताह विधानसभा में केंद्रीय एजेंसी सीबीआइ और ईडी के दो अधिकारियों के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाया गया था। उक्त प्रस्ताव आगे की कार्यवाही के लिए बुधवार को विशेषाधिकार कमेटी के समक्ष प्रस्तुत किया गया था। अगली बैठक में तय हो सकता है कि दोनों एजेंसियों को नोटिस दिया जाएगा या नहीं।

बताते चलें कि अक्टूबर में स्पीकर बिमान बनर्जी ने सीबीआइ और ईडी के अधिकारियों को कई बार तलब किया था, लेकिन आरोप है कि उक्त अधिकारियों ने स्पीकर के समन को गंभीरता से नहीं लिया। स्पीकर ने हाल ही में विधानसभा सत्र के दौरान इस मुद्दे पर नाराजगी जताई थी। उन्होंने यह भी खेद व्यक्त किया कि दो केंद्रीय एजेंसी ने विधानसभा अध्यक्ष का अपमान किया है।

विधानसभा में पेश हो चुका है विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव

नतीजतन विधानसभा के शीतकालीन सत्र के आखिरी दिन तृणमूल विधायक और उपमुख्य सचेतक तापस राय ने इस संबंध में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव पेश किया। जिसमें उन्होंने कहा कि सीबीआइ और ईडी ने बंगाल विधानसभा अध्यक्ष पद का अपमान किया है। विधानसभा में तृणमूल के मुख्य सचेतक निर्मल घोष ने उक्त प्रस्ताव पर सहमति जताई और इसके बाद उसे विशेषाधिकार कमेटी को भेज दिया गया। बुधवार को इस मामले पर चर्चा हुई। चर्चा के अंत में पता चला है कि दोनों केंद्रीय एजेंसियों को अगले सप्ताह विधानसभा के विशेषाधिकार कमेटी के समक्ष पेश होने के लिए कहा जा सकता है।

सुवेंदु पर मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने लगाया है स्पीकर के अपमान का आरोप

समिति में विपक्ष के नेता व भाजपा विधायक सुवेंदु अधिकारी के खिलाफ भी लगे आरोपों पर चर्चा की है। राज्य की मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने आरोप लगाया था कि संवाददाता सम्मेलन में नेता विपक्ष सुवेंदु अधिकारी ने विधानसभा अध्यक्ष के खिलाफ आपत्तिजनक भाषा किया था। आरोपों की पुष्टि के लिए उक्त संवाददाता सम्मेलन की वीडियो क्लिपिंग की भी विशेषाधिकार समिति ने जांच की। समिति के कई सदस्यों ने दावा किया कि चंद्रिमा के आरोपों का समर्थन करने के लिए प्रारंभिक सबूत थे। क्योंकि, विभिन्न टीवी और मीडिया क्लिपिंग्स में यह स्पष्ट रूप से देखा और सुना जाता है कि विपक्ष के नेता ने अध्यक्ष के प्रति आपत्तिजनक शब्द का इस्तेमाल किया है। सूत्रों के मुताबिक, इस कमेटी में शामिल भाजपा सदस्यों का मानना है कि मामले की और जांच किए जाने की जरूरत है। समिति की अगली बैठक छह दिसंबर को निर्धारित की गई है।