Mamata Banerjee interview: ममता का चुनाव आयोग से अनुरोध, एक या दो दिन में पूरे कराएं बाकी चरण का मतदान

बोलीं ममता- आयोग को सार्वजनिक स्वास्थ्य को देनी चाहिए तरजीह

बंगाल में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सोमवार को एक बार फिर निर्वाचन आयोग से अनुरोध किया कि वह राज्य में पूर्ववत कार्यक्रम के अनुसार चुनाव संपन्न कराने के अपने फैसले पर पुनॢवचार करे।

Vijay KumarMon, 19 Apr 2021 07:07 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल में कोरोना के बढ़ते मामले को देखते हुए मुख्यमंत्री व तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी ने सोमवार को एक बार फिर निर्वाचन आयोग से अनुरोध किया कि वह राज्य में पूर्ववत कार्यक्रम के अनुसार चुनाव संपन्न कराने के अपने फैसले पर पुनॢवचार करे। ममता ने जोर देते हुए कहा कि राज्य में आखिरी तीन चरणों का मतदान एक बार में या दो दिन में कराए जाएं। उत्तर दिनाजपुर के चाकुलिया में एक रैली में ममता ने कहा कि आयोग को सार्वजनिक स्वास्थ्य को तरजीह देनी चाहिए।

ममता ने कहा, मैं हाथ जोड़कर निर्वाचन आयोग से अनुरोध करती हूं कि अगले तीन चरणों का मतदान एक दिन में कराएं। अगर एक दिन में नहीं हो सकता तो दो दिन में करा लें और एक दिन बचा लें। उन्होंने कहा, आप भाजपा के कहने पर अपना फैसला मत लीजिए। कृपया चुनाव का कार्यक्रम कम करके जनता के स्वास्थ्य को बचाइए। भले एक ही दिन बच जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह और उनकी पार्टी का कोई नेता घने इलाकों में कोई रैली नहीं करेंगे। 

मोदी से पूछा सवाल- महामारी रोकने के लिए आपने छह महीने में क्या किया?

ममता ने इसके साथ ही देश में कोरोना की दूसरी लहर बढऩे के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को जिम्मेदार ठहराया। ममता ने कहा कि प्रधानमंत्री ने कोरोना संक्रमण रोकने के लिए पिछले छह महीनों में कौन सा निर्णय लिया, क्या उनके पास इसका कोई जवाब है? बिलकुल नहीं। अगर केंद्र की ओर से सही समय पर फैसला लिया जाता तो आज ऐसी स्थिति नहीं होती। वहीं, भाजपा को दंगाइयों और जंग भड़काने वालों की पार्टी बताते हुए ममता ने रैली में उपस्थित लोगों से कहा, उन्हेंं (भाजपा नेताओं को) बंगाल को गुजरात नहीं बनाने दें।

-----------------------

बंगाल में नहीं लगेगा नाइट कर्फ्यू, घबराने की जरूरत नहीं 

इधर, मुख्यमंत्री ने सोमवार को मालदा में संवाददाता सम्मेलन को भी संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने लोगों से आग्रह किया कि वे कोरोना की खराब होती स्थिति को लेकर न घबराएं क्योंकि राज्य सरकार इस बीमार के प्रसार को रोकने के लिए हरसंभव उपाय कर रही है। उन्होंने इस बात का भी संकेत दिया कि राज्य में नाइट कर्फ्यू नहीं लगेगा। ममता ने कहा कि नाइट कर्फ्यू इसका समाधान नहीं है। हमें सतर्क रहना चाहिए, घबराने की कोई बात नहीं है। उन्होंने साथ ही भाजपा का नाम लिए बिना कहा कि राजनीतिक प्रदूषण को पहले रोकने की जरूरत है। 

50 फीसद कार्यबल के साथ काम करने का अनुरोध 

ममता ने स्थिति से निपटने के लिए राज्य सरकार द्वारा अस्पतालों में कोविड-19 बिस्तरों की संख्या बढ़ाने जैसे उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देते हुए सभी कार्यालयों से अनुरोध किया कि वे फिलहाल 50 फीसद कार्यबल के साथ काम करें। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने एक कार्यबल का भी गठन किया है। हमने बिस्तर, सेफ होम की संख्या बढ़ाई है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बंगाल में सभी स्कूलों में गॢमयों की छुट्टियों का भी ऐलान कर दिया है जो कि जून तक रहेंगी। ममता ने इसके अलावा केंद्र सरकार से टीकों और दवाओं की सुचारू आपूॢत सुनिश्चित करने का भी आग्रह किया। उन्होंने कहा कि हमने और टीकों की मांग की है, क्योंकि इसकी भारी कमी है। केंद्र को टीकों, दवाओं और ऑक्सीजन सिलेंडरों की सुचारू आपूॢत सुनिश्चित करनी चाहिए।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.