Coronavirus 3rd Wave: उत्तर बंगाल में कोविड की तीसरी लहर की आशंका, 1000 से ज्यादा बच्चे अज्ञात बुखार की चपेट में

Covid-19 3rd wave उत्‍तर बंगाल में बच्‍चों के बीच अज्ञात बुखार के कहर को देखते हुए अस्‍पताल में पेडियाट्रिक बेड की संख्‍या बढ़ा दी गई है। इस समय 1000 से ज्यादा बच्चे अज्ञात बुखार की चपेट में हैं। जिससे कोविड की तीसरी लहर की आशंका पैदा हो रही है।

Babita KashyapSat, 25 Sep 2021 08:53 AM (IST)
उत्तर बंगाल में बच्चों में अज्ञात बुखार का कहर

राज्य ब्यूरो, कोलकाता। उत्तर बंगाल में इन दिनों बच्चों में अज्ञात बुखार के कहर के बीच राज्य स्वास्थ्य विभाग ने राज्य के विभिन्न अस्पतालों में पेडियाट्रिक बेड बढ़ाए हैं। राज्य सरकार ने दावा किया है कि कुल 3816 पेडियाट्रिक बेड बढ़ाए गए हैं। एक अधिसूचना भी यह जानकारी दी गई है। अधिसूचना में एसएनसीयू, पीकू, नीकू बेड कहां और कितने चालू हैं इसकी जानकारी भी दी गई है।

राज्य के स्वास्थ्य सेवा निदेशक (डीएचएस) डा अजय चक्रवर्ती ने बताया कि हाल ही में बच्चों में बीमारी के बढ़ने से बेड की संख्या को लेकर आम जनता में कोई भ्रम न हो, इसके लिए जनहित में एक अधिसूचना जारी की गई है। डेढ़ साल पहले, कोविड की पहली लहर के दौरान, जब विभिन्न अस्पतालों में बेड की कमी की बात सामने आ रही थी तो, स्वास्थ्य विभाग द्वारा एक विशेष घोषणा की गई थी। एक अस्पताल में कितने बेड हैं, इसका रिकार्ड वेबसाइट पर दर्ज था। इस बार स्वास्थ्य विभाग ने उस घोषणा को नए सिरे से उजागर किया है।

कोविड की तीसरी लहर की आशंका

एक तरफ जहां पूरे राज्य में बच्चे बुखार से पीड़ित हो रहे हैं, वहीं कोविड की तीसरी लहर को लेकर आशंका पैदा हो रही है। ऐसे में स्वास्थ्य विभाग चाहता है कि सभी को पता चले कि एक अस्पताल में कहां और कितने बेड हैं। ऐसे में ग्रामीण अस्पताल, प्रखंड अस्पताल, जिला अस्पताल, मेडिकल कॉलेज व अस्पताल सहित प्रत्येक स्थान पर कितने एसएनएसयू, पीकू, नीकू बेड हैं, जानकारी दी गई है। हाल ही में एक अज्ञात बुखार से बच्चे ग्रसित हुए हैं। ऐसे में बच्चों की चिकित्सा को लेकर जिलों में बच्चों के आईसीयू या पीडियाट्रिक इंटेंसिव केयर यूनिट या पीकू बेड की संख्या बढ़ाई गई है।

1000 से ज्यादा बच्चे अज्ञात बुखार की चपेट में

एक झटके में यह संख्या 244 से बढ़कर 679 हो गई। स्वास्थ्य भवन की ओर से दिशा-निर्देश भी जारी किए गए हैं। इसके अलावा मुर्शिदाबाद मेडिकल कालेज व अस्पताल व एसएसकेएम में नवजात गहन चिकित्सा इकाई या नीकू बेड की संख्या भी बढ़ा दी गई है। अब तक राज्य के 21 अस्पतालों में पीकू की संख्या 244 थी। स्वास्थ्य विभाग के निर्देश पर 244 और बेड जोड़ने का निर्णय लिया गया। बता दें कि उत्तर बंगाल में इस समय 1000 से ज्यादा बच्चे अज्ञात बुखार की चपेट में हैं और विभिन्न अस्पतालों में उनका इलाज चल रहा है। अज्ञात बुखार से अब तक कम से कम आधा दर्जन से ज्यादा बच्चों की मौत भी हो चुकी है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.