ममता बनर्जी ने कहा- दुर्गापूजा में सभी शामिल हों दीदी आप के साथ हैं, दिया 28 करोड़ का तोहफा

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। दीदी आप लोगों के साथ हैं। सभी पूजा में शामिल हैं। संबोधन से पूर्व यह बातें मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सोमवार को नेताजी इनडोर स्टेडियम में दुर्गा पूजा आयोजकों की बुलाई गई बैठक के दौरान कही। साथ ही दुर्गापूजा आयोजकों के लिए जमकर ममता बरसा दीं।

मुख्यमंत्री ने एलान किया कि राज्य की छोटी-बड़ी करीब 28 हजार दुर्गा पूजा कमेटियों को 10-10 हजार रुपये अनुदान के रूप में दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि कोलकाता में करीब 3 हजार पूजा आयोजित होती है और विभिन्न जिलों में 25 हजार पूजा। राज्य में सभी 28 हजार पूजा कमेटियों को 10 हजार रुपये करके अनुदान दिए जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोलकाता नगर निगम व कोलकाता पुलिस की ओर से महानगर के सभी 3 हजार पूजा कमटियों को दस-दस हजार रुपये दिए जाएंगे। वहीं जिलों के दुर्गा पूजा आयोजकों को राज्य पुलिस, क्रेता सुरक्षा व पर्यटन विभाग संयुक्त रूप से दस-दस हजार रुपये देंगे। यही नहीं ममता दुर्गा पूजा आयोजकों के लिए और भी कई सुविधाओं की घोषणा की। उन्होंने कहा कि पहले बिजली विभाग द्वारा पूजा आयोजकों से लाइसेंसिंग फी लिया जाता था अब वह नहीं लिया जाएगा।

वहीं अग्निशमन फीस भी नहीं वसूला जाएगा। बिजली शुल्क में पहले जो 18 से 20 फीसद की छूट मिलती थी उसे अब बढ़ा कर 20 से 23 फीसद कर दिया गया है। बैठक में राज्यभर के पूजा कमेटियों के अलावे पुलिस, अग्निशमन, बिजली समेत सभी संबंधित विभाग व मेयर मौजूद थे।

जिसमें ममता ने कहा कि 19 से 22 अक्टूबर तक दुर्गापूजा की प्रतिमा का विसर्जन होगा और 23 अक्टूबर को रेड रोड में दुर्गापूजा कार्निवल आयोजित होगा। इस वर्ष 55 से 75 पूजा कमेटियां कार्निवल में भाग लेंगे।

मुख्यमंत्री ने भाजपा का नाम नहीं लेते हुए कहा कि एक पार्टी ऐसी है जो लोगों में भेद-भाव पैदा करती है। विभिन्न धर्म व समुदाय के लोगों में दंगा लगाने लगाना कुछ लोगों का काम है। मुख्यमंत्री ने उन्हें सतर्क करते हुए कहा कि ऐसे लोगों को आग से खेलने से बाज आना चाहिए। आग लगाना आसान है। लेकिन आग लगने के बाद उसे बुझाना बड़ा मुश्किल होता है। बंगाल में सभी धमरें के लोग दुर्गोत्सव में भाग लेते हैं। यहां किसी को दंगा लगाने की छूट नहीं मिलेगी।

चुनावी हथकंडा: भाजपा

10 हजार अनुदान को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि यह चुनावी हथकंडा है। क्योंकि, पिछले वर्ष विसर्जन रोक दी थी और अब वह रुपये बांट रही हैं।

सांप्रदायिकता का प्रतियोगिता चल रहा है: माकपा

माकपा नेता राबिन देव ने कहा कि बंगाल में सांप्रदायिकता का प्रतियोगिता चल रहा है। भाजपा की तरह ही सांप्रदायिकता का कार्ड तृणमूल खेल रही है। दस हजार रुपये गिफ्ट देने का अर्थ क्या है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.