दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Corona in Bengal: कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने ऑक्सीजन की कमी के कारण कोरोना के मरीजों को भर्ती लेना किया बंद

कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल में ऑक्सीजन कमी

Corona in Bengal ऑक्सीजन किल्लत-अस्पताल में इस वक्त कोरोना के 150 मरीज हैं भर्ती सभी को रखा गया है ऑक्सीजन पर उनके लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में ही अस्पताल को काफी परेशानी का करना पड़ रहा सामना।

Priti JhaFri, 07 May 2021 08:48 AM (IST)

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल ने ऑक्सीजन की कमी के कारण कोरोना के मरीजों को भर्ती लेना बंद कर दिया है। अस्पताल प्रबंधन की ओर से कहा गया है कि इस समय अस्पताल में कोरोना के जितने मरीज भर्ती हैं, वे सभी ऑक्सीजन पर हैं। ऐसे में एक भी और मरीज की भर्ती नहीं ली जा सकती। अस्पताल प्रबंधन ने हालांकि आश्वासन देते हुए यह भी कहा है कि इस समस्या का जल्दी ही समाधान कर लिया जाएगा और उसके बाद नए सिरे से कोरोना के मरीजों की भर्ती ली जाएगी।

गौरतलब है कि कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल महानगर ही नहीं बल्कि बंगाल के प्रमुख अस्पतालों में से एक है। चिकित्सक व स्वास्थ्य विशेषज्ञ वहां ऑक्सीजन की कमी के मामले को बेहद चिंताजनक बता रहे हैं। वैसे भी एक तरफ जहां कोरोना के मामले दिन- ब-दिन बढ़ते जा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ कोलकाता के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी का संकट भी गहराता जा रहा है। इस स्थिति के इसी तरह बरकरार रहने पर आने वाले दिनों में हालात बेहद गंभीर रूप धारण कर सकता है।

कलकत्ता नेशनल मेडिकल कॉलेज अस्पताल सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अस्पताल में इस वक्त कोरोना के 150 मरीज भर्ती हैं। उन सभी के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति करने में ही अस्पताल को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। ऐसा ही चलता रहा तो कई मरीजों की मौत की भी आशंका जताई जा रही है। इस बीच अस्पताल के अधीक्षक ने कहा है कि ऐसे ऑक्सीजन पैनल को तैयार करने का काम चल रहा है, जिससे 250 मरीजों के लिए ऑक्सीजन की आपूर्ति की व्यवस्था की जा सके। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.