Coal Smuggling Case: तृणमूल नेता विनय मिश्रा ने कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया

तृणमूल नेता विनय मिश्रा ने कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया

कोयला तस्करी मामले के आरोपित तृणमूल नेता विनय मिश्रा ने कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है और इस मामले में सभी आरोपों को खारिज करने की मांग की। सूत्रों के अनुसार यह मामला आज जस्टिस जॉय सेनगुप्ता की एकल पीठ में आया।

Vijay KumarMon, 22 Mar 2021 07:05 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, कोलकाता : कोयला तस्करी मामले के आरोपित तृणमूल नेता विनय मिश्रा ने कलकत्ता उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया है और इस मामले में सभी आरोपों को खारिज करने की मांग की। सूत्रों के अनुसार, यह मामला आज जस्टिस जॉय सेनगुप्ता की एकल पीठ में आया। अदालत ने मामले की सुनवाई के लिए 31 मार्च की तारीख तय की है।

तृणमूल नेता के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी 

कोयला तस्करी मामले में विनय का नाम सीबीआइ की पहली प्राथमिकी में नहीं लिया गया था। बाद में अवैध कोयला तस्करी का पैसा विनय मिश्रा के माध्यम से प्रभावशाली लोगों के पास चला गया। विनय मिश्रा की संपत्ति को जब्त करने के लिए ईडी पहले ही नोटिस जारी कर चुका है। बार-बार समन के बावजूद उपस्थित नहीं होने पर युवा तृणमूल नेता के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया गया है।

रात 7 बजे देश छोड़कर दुबई भाग गया था विनय

कुछ दिन पहले ईडी ने भगोड़े विनय की तलाश करते हुए उसके भाई विकास मिश्रा को दिल्ली से गिरफ्तार किया था। पूछताछ से पता चला है कि विनय 16 सितंबर, 2020 को ईके 571 पर रात 7 बजे देश छोड़कर भाग गया था। उसने कोलकाता से सीधे दुबई के लिए उड़ान भरी। हालांकि, वर्तमान में यह ज्ञात नहीं है कि विनय किस देश में छिपा हुआ है। हालांकि, विनय के वकील नियमित रूप से अदालत का दौरा करते हैं।

कोयला तस्करी का सारा पैसा इसी बैंक में जमा 

जांचकर्ताओं ने पहले ही इस मामले में तृणमूल सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्‍‌नी रूजिरा नरूला बनर्जी तथा उनकी साली मेनका गंभीर के पति और ससुर से पूछताछ की है। सीबीआइ सूत्रों के अनुसार इनके लंदन में बैंक खाते पर भी नजर रखी जा रही है। जांचकर्ताओं को संदेह है कि कोयला तस्करी का सारा पैसा इसी बैंक में जमा किया गया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.