Mamta Banerjee पश्चिम बंगाल में कभी लागू नहीं होने दूंगी NRC, लोकतंत्र में विरोध प्रदर्शन महत्वपूर्ण हैं

कोलकाता, एएनआई। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी ने कहा कि पश्चिम बंगाल में लोकतंत्र है लेकिन देश के कई अन्य हिस्सों में यह खतरे में है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में विरोध प्रदर्शन महत्वपूर्ण हैं। जिस दिन विरोध प्रदर्शन अपना मूल्य खो देंगे उस दिन भारत, भारत होना बंद हो जाएगा। 

 NRC पर ममता बोलीं- पश्चिम बंगाल में कभी लागू नहीं होने दूंगी, मुझ पर करें भरोसा

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वो अपने राज्य में NRC लागू नहीं होने देंगी। सीएम ममता ने कहा मैं दुःखी हूं कि बंगाल में नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स को लेकर पैदा हुई घबराहट की वजह से छह लोगों की मौत हो गई। हम यहां NRC की अनुमति कभी नहीं देंगे। मुझ पर भरोसा कीजिए।

ममता बनर्जी ने कहा कि एनआरसी बंगाल या देश के किसी भी हिस्से में नहीं होगा। असम में यह 'असम समझौते' की वजह से हुआ। असम समझौता 1985 में तत्कालीन राजीव गांधी सरकार और ऑल असम स्टुडेंट्स यूनियन के बीच हुआ था।

उन्होंने कहा कि भाजपा रोजगार छीनने या भारत की अर्थव्यवस्था के नीचे जाने की कोई बात नहीं कर रही, वह तो बस अपने राजनीतिक हितों को साधना चाहती है। हम सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण, उन्हें बंद किए जाने के विरोध में 18 अक्टूबर को रैली करेंगे। हमने देखा कि उन्होंने (एबीवीपी, भाजपा) जाधवपुर विश्वविद्यालय में क्या किया, वे हर जगह सत्ता हासिल करना चाहते हैं ।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.