बीएसएफ ने भारत में घुसपैठ की कोशिश करते नौ बांग्लादेशियों को पकड़ा, इनमें आठ महिलाएं शामिल

अंतरराष्ट्रीय सीमा को पार कर भारत में घुसपैठ की कोशिश करते नौ बांग्लादेशी नागरिक गिरफ्तार

सभी लोग दलाल की मदद से अवैध तरीके से सीमा को पार कर भारत में घुसने की कोशिश कर रहे थे। इनमें से चार बांग्लादेशी युवतियों को मानव तस्करी गिरोह द्वारा गलत काम करवाने के लिए भारत लाया जा रहा था।

Publish Date:Mon, 18 Jan 2021 07:43 AM (IST) Author: Babita Kashyap

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के 153वीं बटालियन के जवानों ने बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले में बीएसएफ की सीमा चौकी कैजुरी इलाके से अवैध तरीके से अंतरराष्ट्रीय सीमा को पार कर भारत में घुसपैठ की कोशिश करते नौ बांग्लादेशी नागरिकों को गिरफ्तार किया है। इनमें आठ महिलाएं व एक पुरुष शामिल है। बीएसएफ अधिकारियों ने रविवार को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि इन सभी बांग्लादेशी नागरिकों को 14 जनवरी को पकड़ा गया। ये सभी लोग दलाल की मदद से सीमा को पार कर भारत में घुसने की कोशिश कर रहे थे। 

 पूछताछ में पता चला कि ये लोग बांग्लादेश के अलग-अलग जिलों के रहने वाले है। बीएसएफ अधिकारियों ने बताया कि प्रारंभिक पूछताछ के दौरान यह भी पता चला है कि इनमें से चार बांग्लादेशी युवतियों को मानव तस्करी गिरोह द्वारा गलत काम करवाने के लिए भारत लाया जा रहा था। हालांकि बीएसएफ के सतर्क जवानों ने उन्हें तस्करी गिरोह के चंगुल से मुक्त करा लिया। दरअसल, कई बार देखा जाता है कि बांग्लादेशी युवतियों को मानव तस्करों द्वारा अच्छी नौकरी आदि का झांसा देकर बहला-फुसलाकर सीमा पार करवा कर भारत लाया जाता है और फिर यहां उन्हें देह व्यापार व जिस्मफरोशी के धंधे में धकेल दिया जाता है। 

 बीएसएफ ने प्रारंभिक पूछताछ के बाद गिरफ्तार सभी बांग्लादेशी नागरिकों को आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए तेंतुलिया थाने के हवाले कर दिया है।इधर,153 बटालियन, बीएसएफ के कमांडेंट जवाहर सिंह नेगी ने आठ महिलाओं समेत नौ बांग्लादेशी नागरिकों के पकड़े जाने पर खुशी जाहिर करते हुए अपने सतर्क जवानों की पीठ थपथपाई। उन्होंने कहा कि अंतरराष्ट्रीय सीमा के आसपास मानव तस्करी की गतिविधियां को नियंत्रित करने की दिशा मे यह सार्थक प्रयास है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.