बंगाल में निगम चुनाव में केंद्रीय बलों की मांग पर भाजपा पहुंची सुप्रीम कोर्ट, राज्य चुनाव आयोग से भी की अपील

केंद्रीय बलों की तैनाती को लेकर प्रदेश भाजपा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गयी है। राज्य चुनाव आयुक्त को दिये गये पत्र में भाजपा की ओर से कहा गया कि चुनाव की घोषणा के साथ ही भाजपा उम्मीदवारों को फोन पर धमकियां मिलने लगी हैं।

Babita KashyapFri, 03 Dec 2021 09:46 AM (IST)
कोलकाता नगर निगम के चुनाव में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग पर भाजपा ने सुप्रीम कोर्ट का रुख किया।

कोलकाता, राज्य ब्यूरो। कोलकाता नगर निगम के चुनाव में केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग पर भाजपा ने अब सुप्रीम कोर्ट का रुख किया है। केंद्रीय बलों की तैनाती को लेकर प्रदेश भाजपा की ओर से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की गयी है। इस बारे में प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष डॉ. सुकांत मजूमदार ने कहा कि पश्चिम बंगाल में जिस प्रकार की परिस्थिति है, उसे देखते हुए ही केंद्रीय बलों की तैनाती की मांग की जा रही है। राज्य पुलिस के द्वारा निगम चुनाव असंभव है, इस कारण केंद्रीय वाहिनी की मांग की जा रही है। निगम चुनाव में केंद्रीय बलों की मांग पर भाजपा ने राज्य चुनाव आयुक्त को ज्ञापन सौंपा है।

राज्य चुनाव आयुक्त को दिये गये पत्र में भाजपा की ओर से कहा गया कि निगम चुनाव की घोषणा के साथ ही अभी से भाजपा उम्मीदवारों को फोन पर धमकियां मिलने लगी हैं। नामांकन के अंतिम दिन भी भाजपा उम्मीदवारों को नामांकन से रोकने की को​शिश की गयी थी, ऐसे में यहां बगैर केंद्रीय बलों के स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव संभव नहीं है। वहीं इस मुद्दे पर तृणमूल सांसद सौगत राय ने कहा कि हार के डर से भाजपा चुनाव में खलल डालने की कोशिश कर रही है।

बताते चलें कि बीते दिनों भाजपा नेतओं की एक टीम ने राज्यपाल जगदीप धनखड़ से मुलाकात की और उन्हें ज्ञापन सौंपा। भाजपा के इस प्रतिनिधि मंडल में पार्टी के राज्य महासचिव संजय सिंह, विधायक अग्निमित्रा पाल, राजू बनर्जी, रथिंद्रनाथ बोस और शिशिर बाजोरिया शामिल थे। उन्होंने राज्यपाल से कोलकाता नगर निगम चुनाव जो 19 दिसंबर को होना है उसके लिए केंद्रीय बल तैनात करने की मांग की।

भाजपा नेताओं का कहना है कि बंगाल में कानून व्यवस्था की मौजूदा स्थिति व सत्तारूढ़ दल तृणमूल के आतंक को देखते हुए नगर निकाय चुनाव में केंद्रीय बल की तैनाती जरूरी है। अगर ऐसा नहीं हुआ तो स्वतंत्र, निष्पक्ष व शांतिपूर्ण मतदान संभव नहीं है।भाजपा नेताओं ने कहा कि राज्यपाल ने आश्वासन दिया कि वे राज्य चुनाव आयुक्त को उचित रूप से निर्देशित करेंगे। इससे पहले सोमवार को भाजपा की ओर से राज्य चुनाव आयोग को केंद्रीय बल की मांग को लेकर ज्ञापन सौंपा गया था।

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुकांत मजूमदार ने कहा कि बंगाल विधानसभा चुनाव बाद भारी हिंसा हुई थी, जिसमें हमारे 50 से अधिक कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई। इस हिंसा की कलकत्ता हाई कोर्ट के निर्देश पर सीबीआइ जांच हो रही है। 2013 पंचायत चुनाव का उदाहरण पेश करते हुए उन्होंने कहा कि उस समय राज्य चुनाव आयोग ने बंगाल सरकार के मत के विपरीत जाकर केंद्रीय बलों की सुरक्षा में चुनाव कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट तक लड़ा था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.