top menutop menutop menu

West Bengal: खाताधारक को पता भी नहीं चला, जालसाज ने बैंक खाते से उड़ा दिए तीन करोड़ रुपये

West Bengal: खाताधारक को पता भी नहीं चला, जालसाज ने बैंक खाते से उड़ा दिए तीन करोड़ रुपये
Publish Date:Tue, 04 Aug 2020 04:14 PM (IST) Author: Neel Rajput

कोलकाता, जागरण संवाददाता। बिधाननगर साइबर क्राइम पुलिस ने एक ऐसे जालसाज को गिरफ्तार किया है जो बड़े ही शातिर तरीके से लोगों के बैंक खातों पर डाका डाल रहा था। पुलिस ने साल्टलेक में एक निजी बैंक के ग्राहक के खाते से लगभग 3 करोड़ रुपये गायब करने के आरोपित को मंगलवार को गिरफ्तार किया है। उसका नाम समीरन साहा बताया गया है। उत्तर 24 परगना जिले के खड़दह निवासी समीरन एंटीक वस्तुओं का कारोबार करता है। पुलिस को शक है कि इस गिरोह में कई और लोग भी शामिल हैं। पुलिस ने गिरोह के बाकी सदस्यों की तलाश शुरू कर दी है। 

पुलिस सूत्रों के अनुसार 30 जुलाई को साल्टलेक के सेक्टर फाइव में स्थित एक निजी बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक ने पुलिस में शिकायत की कि उसकी बागुईआटी की शाखा से एक ग्राहक के खाते से लगभग 3 करोड़ रुपये विभिन्न खातों में स्थानांतरित किए गए हैं। आरोपों के आधार पर पुलिस ने प्रारंभिक जांच की और उधर बिधाननगर साइबर क्राइम ने भी जांच शुरू कर दी।

जांच के दौरान पुलिस ने खड़दह के रहने वाले समीरन साहा को गिरफ्तार किया और उससे पूछताछ में पता चला कि आरोपित ने पहले बैंक के उक्त ग्राहक का ब्योरा एकत्र किया। इसके बाद उसने बैंक में जाकर खुद को खाताधारक बता कर सारी जानकारी देने के बाद बैंक से इमेल आइडी और मोबाइल नंबर बदलने का अनुरोध किया। नंबर और मेल आईडी उसी के अनुसार बदल दिया गया। फिर वह उसी बैंक का ऐप डाउनलोड उस ग्राहक के खाते से अलग-अलग खातों में पैसे ट्रांसफर करता गया। इसी तरह उसने पूरा खाता खाली कर दिया। चूंकि एसएमएस अलर्ट नंबर पहले बदल दिया गया होता, असली खाताधारक को कुछ भी पता नहीं चला।

यहीं से सवाल उठता है। आखिर इस जालसाज को उक्त ग्राहक का विवरण कैसे मिला? क्या इस सब के पीछे बैंक का कोई कर्मचारी भी तो शामिल नहीं है? इन सभी बातों की जांच पुलिस अधिकारी कर रहे हैं। पुलिस इस बात की भी पता लगा रही है कि इस जालसाजी गिरोह में और कौन-कौन शामिल हैं।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.