Bengal Violence: आत्मसमर्पण नहीं करने पर भाजपा कार्यकर्ता की हत्या के आरोपितों की संपत्ति जब्त करेगी सीबीआइ

केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने बीरभूम के इलमबाजार में चुनाव बाद हुई हिंसा के दौरान भाजपा कार्यकर्ता की हत्या के आरोपितों के नाम पर हुलिया जारी किया है। भगोड़े आरोपितों के घरों पर नोटिस चस्पा दिए गए हैं।

Vijay KumarPublish:Thu, 25 Nov 2021 05:01 PM (IST) Updated:Thu, 25 Nov 2021 05:01 PM (IST)
Bengal Violence: आत्मसमर्पण नहीं करने पर भाजपा कार्यकर्ता की हत्या के आरोपितों की संपत्ति जब्त करेगी सीबीआइ
Bengal Violence: आत्मसमर्पण नहीं करने पर भाजपा कार्यकर्ता की हत्या के आरोपितों की संपत्ति जब्त करेगी सीबीआइ

राज्य ब्यूरो, कोलकाता : केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) ने बीरभूम के इलमबाजार में चुनाव बाद हुई हिंसा के दौरान भाजपा कार्यकर्ता की हत्या के आरोपितों के नाम पर हुलिया जारी किया है। भगोड़े आरोपितों के घरों पर नोटिस चस्पा दिए गए हैं। यदि वे निर्धारित समय के भीतर आत्मसमर्पण नहीं करते हैं, तो सीबीआइ उनकी संपत्ति की जब्ती के रास्ते पर जाएगी। भाजपा कार्यकर्ता गौरव सरकार की विधानसभा नतीजे के दिन दो मई को हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं पर लगा है।

आरोप है कि स्थानीय तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने कथित तौर पर पीट-पीट कर गौरव सरकार को मार डाला था। मृत भाजपा कार्यकर्ता के पिता ने 24 लोगों के खिलाफ थाने में मामला दर्ज कराया है। बाद में सीबीआइ ने अदालत के निर्देश पर घटना की जांच शुरू की तथा तीन लोगों को गिरफ्तार कर लिया। और चार अन्य ने आत्मसमर्पण कर दिया लेकिन बाकी आरोपित अभी भी फरार हैं।

भगोड़े आरोपितों की तलाश में सीबीआइ ने बुधवार को जिले के बोलपुर थाना इलाके के कामारपाड़ा गांव में तृणमूल कांग्रेस के स्थानीय कार्यालय और आरोपितों के घरों पर नोटिस चस्पा दिए। सीबीआइ ने नोटिस में कहा कि यदि आरोपित 29 दिसंबर तक बोलपुर अनुमंडल न्यायालय के समक्ष आत्मसमर्पण नहीं करते हैं तो उनकी चल-अचल संपत्ति जब्त कर ली जाएगी।