अस्पतालों में तैयारिया पूरी, आज से होगा टीकाकरण

-प्रथम चरण में दाíजलिंग जिला में स्वास्थ्य परिसेवा क्षेत्र के 18 हजार लोगों को दिया जाएगा कोवीशील्ड

JagranFri, 15 Jan 2021 07:24 PM (IST)
अस्पतालों में तैयारिया पूरी, आज से होगा टीकाकरण

-प्रथम चरण में दाíजलिंग जिला में स्वास्थ्य परिसेवा क्षेत्र के 18 हजार लोगों को दिया जाएगा कोवीशील्ड टीका -एक व्यक्ति को 28 दिन के अंतराल पर लेना होगा कुल दो डोज, 80 प्रतिशत से ज्यादा प्रभावशाली है वैक्सीन

----------------

09

बजे सुबह से टीकाकरण

10

डोज वैक्सीन हर फाइल में

10

लोग एक बार जाएंगे टीका लेने

28

दिन बाद दूसरा डोज लेना होगा

इरफ़ान-ए-आज़म, सिलीगुड़ी : कोरोना वायरस महामारी (कोविड-19) की रोकथाम की दिशा में टीकाकरण के इंतजार की घड़िया अब समाप्त होने को हैं। देश भर के तमाम जगहों की भाति सिलीगुड़ी व उत्तर बंगाल के विभिन्न जिलों में भी टीकाकरण हेतु कोरोना वायरस वैक्सीन की पहली खेप बीते बुधवार को मध्य रात्रि में ही आ चुकी है। देशभर के साथ ही साथ यहा सिलीगुड़ी समेत पूरे उत्तर बंगाल में भी शनिवार 16 जनवरी 2021 को सुबह नौ बजे से कोरोना वायरस का टीकाकरण शुरू हो जाएगा। इसके लिए विभिन्न जिला मुख्यालय व अन्य जगहों पर निíदष्ट अस्पतालों में आवश्यक तैयारिया पूरी कर ली गई हैं। दाíजलिंग जिला के लिए कुल 18000 डोज वैक्सीन आई है। अलग-अलग तीन बॉक्स में प्रति बॉक्स 600 शीशिया (फाइल) यानी 1800 फाइल कोवीशील्ड वैक्सीन दाíजलिंग जिला को मिली है। इसमें हर फाइल में 10 डोज वैक्सीन है। इसके टीकाकरण का प्रथम चरण शनिवार से शुरू हो जाएगा। सिलीगुड़ी में सिलीगुड़ी जिला अस्पताल के अलावा उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में टीकाकरण होगा। किस-किस को मिलेगी वैक्सीन

18 से 65 वर्ष तक के लोगों को वैक्सीन दी जाएगी। प्रथम चरण में सरकारी व निजी दोनों ही श्रेणी के स्वास्थ्य परिसेवा क्षेत्र के लोगों डॉक्टरों, नर्सो व स्वास्थ्य कíमयों को वैक्सीन मिलेगी। ऐसे 17434 लोगों का नाम प्रथम चरण के लिए पहले से ही पंजीकृत है। उन सभी को, उनके द्वारा प्रदत्त काटैक्ट नंबर पर स्वास्थ्य विभाग की ओर से मैसेज भेज कर व कॉल कर सूचित कर दिया जाएगा। 18 वर्ष से कम आयु वालों, गर्भवती महिलाओं, व दूध पिलाने वाली माताओं को यह वैक्सीन नहीं दी जाएगी। इसी प्रकार इम्यूनो कंप्रोमाइज्ड लोगों जैसे कैंसर रोगी, स्ट्रॉयड ले रोगी आदि गंभीर रोगियों को यह वैक्सीन देने से पहले बहुत कुछ विचार किया जाना जरूरी है। कहा-कहा मिलेगी वैक्सीन

दाíजलिंग जिला के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी (सीएमओएच) डॉ. प्रलय आचार्य ने बताया कि प्रथम चरण में जिले में पाच जगहों पर टीकाकरण होगा। उनमें सिलीगुड़ी समतल क्षेत्र के लिए नॉर्थ बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच), सिलीगुड़ी जिला अस्पताल, खोरीबाड़ी ग्रामीण अस्पताल, और दाíजलिंग पार्वत्य क्षेत्र के लिए दाíजलिंग सदर अस्पताल व कíसयाग महकमा अस्पताल में कोरोना वैक्सीन टीकाकरण केंद्र बनाए गए हैं। कब-कब मिलेगी वैक्सीन

प्रथम चरण 16 जनवरी शनिवार से शुरू हो रहा है। उस दिन व उसके बाद सोमवार, मंगलवार और शुक्रवार व शनिवार को वैक्सीन दी जाएगी। कैसे-कैसे होगा टीकाकरण

हरेक केंद्र पर कोरोना वायरस संक्रमण (कोविड-19) सुरक्षा संबंधी समस्त दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए ही टीकाकरण किया जाएगा। एक बार में कम से कम 10 लोग हो जाएंगे तभी वैक्सीन की एक फाइल खोली जाएगी और लोगों को दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि एक फाइल में वैक्सीन के 10 डोज होते हैं। यह वैक्सीन देते समय लोगों की शारीरिक अवस्था का भी चिकित्सक परीक्षण करेंगे। उसके अनुरूप ही वैक्सीन दी जा सकती है या नहीं भी दी जा सकती है। यह वैक्सीन देने में 50 वर्ष से अधिक उम्र के वैसे लोगों को ज्यादा वरीयता दी जाएगी जो कॉमोíबड हैं। अर्थात जो अन्य बीमारिया जैसे शुगर, ब्लड प्रेशर आदि को रोगी होने के साथ ही साथ कोविड-19 से भी ग्रसित हुए क्योंकि ऐसे लोगों में वायरस के पुन: पनपने का खतरा ज्यादा होता है। सीएमओएच ने कहा कि टीकाकरण में कोई समस्या नहीं होगी। क्योंकि, इससे पहले दो बार इसका ड्राई-रन के तहत सफल ट्रायल हो चुका है। इससे जुड़े सभी लोग प्रशिक्षित हैं। कितना लेना होगा डोज

इस बारे में विशेषज्ञों का कहना है कि एक व्यक्ति को कम से कम दो डोज लेना जरूरी है। एक बार पहला डोज लेने के 28 दिन बाद दूसरा डोज दिया जाएगा। जिस व्यक्ति ने पहला डोज जिस कंपनी का लिया है दूसरा डोज भी उसी कंपनी का लेना होगा। क्या-क्या हैं साइड एफेक्ट्स

इस बारे में उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) के कम्युनिटी मेडीसिन विभाग के प्रमुख डॉ. गौतम धर का कहना है कि थोड़े समय के लिए बुखार, सिर दर्द, चक्कर, थकान व एलर्जी इसके साइड एफेक्ट (कुप्रभाव) हो सकते हैं जो कि सामान्यत: हर वैक्सीन के साथ ऐसा ही है। वही साइड एफेक्ट इस वैक्सीन के भी हो सकते हैं। कितनी सुरक्षित है कोरोना वैक्सीन

इस बारे में उत्तर बंगाल मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (एनबीएमसीएच) के कम्युनिटी मेडीसिन विभाग के प्रमुख डॉ. गौतम धर कहते हैं कि यह वैक्सीन एकदम नई वैक्सीन है। इसका ट्रायल हुआ है लेकिन कंप्लीट ट्रायल अभी तक पूरा-पूरा नहीं हुआ है। वैसे सरकार जो बोल रही है, यह बहुत सुरक्षित वैक्सीन है। कितनी प्रभावी है कोरोना वैक्सीन

इस पर डॉ. गौतम धर कहते हैं कि प्रभाव की जहा तक बात है तो अभी तक इसका सीमित अध्ययन ही हुआ है। इसलिए इसका प्रभाव कितना होगा, पूरी तरह कहा नहीं जा सकता है। वैसे हम लोग मान कर चल रहे हैं कि यह 80 प्रतिशत से ज्यादा प्रभावशाली हो सकती है। यही माना जा रहा है। वैसे समय बताएगा।इसकी टाइम टेस्टिंग अभी तक नहीं हुई है। अर्थात, आज वैक्सीन दी गई और तीन साल बाद उसका प्रभाव-कुप्रभाव हम लोग देखते हैं। वैसी टाइम टेस्टिंग तो इस वैक्सीन की हुई नहीं है। यह नई वैक्सीन शुरू हुई है। सो, हम लोग यह कह नहीं सकते कि इसका प्रभाव कितना होगा। वैसे वे 80 प्रतिशत प्रभावशाली होने का दावा कर रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.