थम नहीं रहा शीतलकूची हिंसा का मामला, बीएसएफ के हेलीकॉप्टर से कूचबिहार शीतलकूची जाएंगे राज्यपाल जगदीप धनखड़

मारे गए परिवार हिंसा प्रभावित लोगों से मिलने के बाद पत्रकारों से बात करेंगे जगदीप धनखड़

चौथे चरण के चुनाव के दौरान कूचबिहार के शीतलकूची बूथ संख्या 126 पर चुनावी हिंसा को रोकने के लिए केंद्रीय सुरक्षा बल द्वारा चलाई गई गोली में मारे गए चार लोगों की मौत के बाद इसको लेकर राजनीति थमने का नाम नहीं ले रही है।

Vijay KumarWed, 12 May 2021 04:05 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, कोलकाता : बंगाल में चुनाव नतीजों के बाद जारी हिंसा को लेकर राज्य सरकार और राजभवन के बीच तनातनी बढ़ती जा रही है। ममता सरकार के ऐतराज के बावजूद राज्यपाल जगदीप धनखड़ गुरुवार को बीएसएफ के हेलीकॉप्टर से हिंसा से प्रभावित इलाकों का दौरा करेंगे।राज्यपाल ने मंगलवार को ही इसका ऐलान कर दिया था। राज्यपाल ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, 'वे 13 मई को बीएसएफ के हेलीकॉप्टर से कोलकाता से रवाना होंगे और कूचबिहार जिले के शीतलकूची समेत हिंसा प्रभावित अन्य क्षेत्रों का दौरा कर पीड़ितों परिवारों से मिलेंगे।'

इस बीच राज्यपाल ने बुधवार को एक अन्य ट्वीट में लिखा कि वह 14 मई, शुक्रवार को असम के रणपगली और श्रीरामपुर शिविरों का भी दौरा करेंगे जहां बंगाल में चुनाव नतीजों के बाद हिंसा के चलते कुछ लोग अपनी सुरक्षा के लिए वहां शरण लिए हुए हैं। गौरतलब है कि राज्यपाल ने यह भी आरोप लगाया है कि दौरे के लिए राज्य सरकार से हेलीकॉप्टर का प्रबंध करने के लिए कहे जाने के बावजूद कोई जवाब नहीं आया। इसके बाद उन्होंने बीएसएफ के लिए हेलीकॉप्टर से दौरा करने का फैसला किया। ‌

तृणमूल ने हिंसा वाले क्षेत्रों के दौरे पर जाने के राज्यपाल के फैसले की आलोचना की

इधर, सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने राज्यपाल द्वारा चुनाव नतीजों के बाद हुई हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों के दौरे पर जाने के फैसले के लिए बुधवार को उनकी आलोचना की। तृणमूल सांसद कल्याण बंदोपाध्याय ने संवाददाताओं से कहा, 'वे (धनखड़) राज्यपाल पद पर रहते हुए अमर्यादित आचरण कर रहे हैं।एक वकील होने के नाते मुझे कोई ऐसा वाकया याद नहीं है जहां किसी राज्यपाल ने इस तरह का बर्ताव किया हो। राज्यपाल पद पर नियुक्त व्यक्ति के लिए इस तरह का आचरण ठीक नहीं है। मुझे लगता है कि वह न्यायपालिका को प्रभावित करने का प्रयास कर रहे हैं क्योंकि कलकत्ता उच्च न्यायालय में एक मामले की सुनवाई चल रही है।'

बता दें कि तृणमूल का जुलाई 2019 में धनखड़ के राज्यपाल पद संभालने के बाद से ही उनके साथ टकराव चल रहा है।वहीं, राज्य के मंत्री रवींद्रनाथ घोष ने भी कहा, 'धनखड़ कूचबिहार के शांतिपूर्ण हालात को बिगाड़ने के लिए आ रहे हैं।' दूसरी ओर, तृणमूल के आरोपों पर पलटवार करते हुए प्रदेश भाजपा के प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा कि अगर राज्यपाल राजनीतिक हिंसा से प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे तो इसमें तृणमूल कांग्रेस को क्यों आपत्ति है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.