कोरोना के कारण अब मोमो गली टेंशन का मुख्य केंद्र

कोरोना के कारण अब मोमो गली टेंशन का मुख्य केंद्र
Publish Date:Sat, 06 Jun 2020 09:01 PM (IST) Author: Jagran

- धमाधम बंद हुई सेठ श्रीलाल मार्केट में दुकानें

-हांगकांग मार्केट के व्यापारी भी दहशत में

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी: शहर के वार्ड 12, 17 और 45 में कोरोना वायरस मरीज के मिलने से पहले से ही आतंक का माहौल था। इसबीच सेठ श्रीलाल मार्केट के मोमो गली के पास एक संक्रमित मरीज मिलने से खलबली मच गई है। मोमो गली और आसपास का इलाका अभी टेंशन का मुख्य केंद्र बन गया है। इसके साथ ही पास स्थित हांगकांग मार्केट के कारोबारियों के माथे पर भी पसीना आ गया है। पूरे दिन बाजार में खुले दुकानों की तरफ संदेह नजर से लोग देख रहे थे। बाजार को सैनिटाइज किया जा रहा था। लोगों ने बताया कि सेठ श्रीलाल मार्केट में एक कपड़े की दुकान का 50 वर्षीय कर्मचारी में कोरोना की पुष्टि हुई है। सिलीगुड़ी नगर निगम से मिल रही जानकारी के अनुसार संक्रमित व्यक्ति इस्टर्न बाईपास इलाके का निवासी है। लॉकडाउन के दौरान वह मछली बेचा करता था। उस व्यक्ति संपर्क में आये लोगों की खोज ली जा रही है। जबकि यह मामला सामने आने के बाद सेठ श्रीलाल मार्केट की दुकानें धमाधम बंद हो गई।

सेठ श्रीलाल मार्केट व्यवसायी समिति के सचिव खोकन भट्टाचार्य ने कहा कि संक्रमित व्यक्ति का मार्केट में बुटीक है। 28 मई को वह सेठ श्रीलाल मार्केट में आए थे। टीएमसी नेता नांटू पाल ने कहा कि आज उनमे कोरोना की पुष्टि होने के बाद एहतियात बरतने के लिए कई दुकानों को बंद करने का निर्णय लिया गया है। वहीं पूरे बाजार को सैनिटाइज किया गया है। यह सिलसिला जारी रहेगा। कुछ व्यवसायियों ने बताया कि इस मार्केट में बहुत सारे दुकानदार है जो शुगर के मरीज हैं। कुछ लोग तो हार्ट के भी मरीज हैं। ऐसे में वे कैसे अपना व्यापार कर पाएंगे। सिलीगुड़ी में कोरोना संक्रमितों के बढ़ते मामले ने दहशत फैला दिया है। कोरोना संक्रमित मरीज पाए जाने के बाद से इलाकाई लोगों के मन में आतंक घर कर जाता है। दो महीने से अधिक लॉकडाउन रखने के बाद सरकार ने दुकान-पाट खोलने की अनुमति तो दी है। लेकिन कोरोना के तांडव से शटर फिर से गिराना पड़ रहा है। शहर के वार्ड नंबर 12, 17, 45, 46 आदि इलाकों का आलम भी एक सा ही है। इन इलाकों में भी हाल में ही कोरोना संक्रमित मरीज पाए गए हैं। कोरोना संक्रमित मरीज को अस्पताल ले जाने या पहले से कोरोना अस्पताल इलाजरत मरीज की जांच पॉजिटिव आने के बाद संबंधित इलाके को सील कर दिया जाता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.