कोरोना काल में जामुन की न करें अनदेखी , ना करे नजरअंदाज

-स्वाद के साथ डायबिटीज और पेट संबंधित बीमारियों के लिए है रामबाण -अगर शरीर में ब्लड शुगर अनियंि

JagranSun, 13 Jun 2021 07:19 PM (IST)
कोरोना काल में जामुन की न करें अनदेखी , ना करे नजरअंदाज

-स्वाद के साथ डायबिटीज और पेट संबंधित बीमारियों के लिए है रामबाण

-अगर शरीर में ब्लड शुगर अनियंत्रित हो तो डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता

-हाई ब्लड शुगर से आखें, दिल, किडनी, हड्डियां कमजोर हो जातीं

--------------

जागरण संवाददाता सिलीगुड़ी: सिलीगुड़ी और उसके आसपास के बाजारों में इन दिनों जगह-जगह जामुन की बिक्री हो रही है। इस फल को कोरोना महामारी काल में नजरअंदाज ना करें। इसके फायदे जानकर आप हैरान हो जाएंगे। शुगर कंट्रोल से लेकर पेट और त्वचा संबंधित कई बीमारियों में यह रामबाण का काम करता है। लोगों के शरीर में ब्लड शुगर अनियंत्रित हो जाता है तो डायबिटीज की चपेट में आने का खतरा बढ़ जाता है। बताया जाता है कि रक्त शर्करा का स्तर स्ट्रेस, खराब खानपान, अस्वस्थ जीवन शैली के कारण बढ़ जाता है। हाई ब्लड शुगर के कारण आखें, दिल, किडनी, हड्डिया कमजोर हो जाती हैं। ऐसे में ब्लड शुगर कंट्रोल करने के लिए खानपान का खास ख्याल रखना चाहिए। आमतौर पर डायबिटीज रोगी सोचते हैं कि उनके लिए फलों का सेवन खतरनाक है। लेकिन कुछ मौसमी फल शुगर लेवल कंट्रोल करने के लिए जाने जाते हैं। इन्हीं में से एक है जामुन जो डायबिटीज के मरीजों के लिए फायदेमंद है। आसमान पर काली घटाएं छाई हुई हों तो जामुन का स्वाद ही कुछ अलग होता है। इन दिनों हर जगह विशेषकर सड़कों के किनारे लगे जामुन सभी को लुभा रहे हैं। साथ ही कुछ रसीले जामुन के फल बेचते दिख जाएंगे। जामुन औषधीय गुणों से भरपूर मौसमी फल है।

आर्युवेद में जामुन के विस्तृत वर्णन दिए गए हैं

आयुर्वेद में भी जामुन का विस्तृत वर्णन है। इसके पत्ते, फल, छिलके व गुठली कई प्रकार के रोगों के इलाज में प्रयोग होते हैं। आयुर्वेद के ज्ञाता राजधवन सिंह के अनुसार जामुन की सूखी गुठली, गुड़मार बूटी और मेथी को बराबर मात्रा में पीस कर यदि एक चम्मच सुबह शाम ठंडे पानी के साथ लें तो शुगर रोगियों को बहुत लाभ होगा।जामुन स्वाद में खट्टा, मीठा सा फल है। जो गíमयों के सीजन में मिलता है।

कई प्रकार के पाए जाते हैं गुण

खट्टेपन के साथ ही इसमें टैनिन और एंथोसायनिन जैसे तत्व भी पाए जाते हैं। और तो और फल के साथ इसकी गुठली का भी इस्तेमाल किया जाता है। कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन से भरपूर जामुन की गुठली से तेल भी निकाला जाता है। गुठली का एल्कोहॉलिक तत्व तो डायबिटीज के रोगियों के लिए वरदान से कम नहीं है, क्योंकि यह ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल में रखता है। उनका कहना है कि कभी खाली पेट जामुन का फल नहीं खाना चाहिए। हमेशा खाना खाने के बाद ही जामुन का फल खाना चाहिए। जामुन खाने के बाद पानी नहीं पीना चाहिए। डॉ. राज ने कहा कि जामुन नमक लगाकर खाने से स्वादिष्ट लगता है और जल्दी पच जाता है। जामुन का सिरका कुछ लोग घर में ही बना लेते हैं जिसका सलाद में सेवन पेट रोगियों के लिए लाभदायक है। दस्त, पेचिश में जामुन के पत्तों को पीसकर नमक के साथ लेने पर लाभ मिलता है। जामुन और अमरूद के पत्ते मिलाकर दातुन करने से मुहं की दुर्गध और मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं। इसके पेड़ की छाल का काढ़ा बनाकर पीने से महिलाओं के गर्भाशय में कई प्रकार के रोग ठीक हो जाते हैं। जामुन की गुठलिया पीसकर शहद और नमक मिलाकर गोलिया बना कर चूसने से गले संबधी रोग दूर हो जाते हैं।

खून को करता है सब

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जामुन खून को साफ करती है और चमड़ी करे रोगों में लाभप्रद है। स्किन से दाग-धब्बे समाप्त कर बेदाग बनाने के लिए आप आठ-दस जामुन लें। इसकी गुठली हटाकर जामुन का रस निकाल लें। इस रस में सात-आठ बूंद शहद मिला लें और इन दोनों को अच्छी तरह से आपस में मिक्स कर लें। अब इस मिश्रण को रुई की मदद से चेहरे पर लगाएं। पंद्रह मिनट तक ऐसे ही लगा रहने दें फिर पानी से धो लें।

स्किन से ऑयल हटाने के लिए

अगर आपकी स्किन ज्यादा ऑयली है तो इसको नार्मल करने के लिए आप सात-आठ जामुन का रस निकाल लें।इसमें आठ-दस बूंद चावल का पानी और इतना ही आवले का रस मिला लें। इन सबको अच्छी तरह से आपस में मिक्स कर लें।इस मिश्रण को कॉटन बॉल के जरिये चेहरे पर लगाएं। बीस मिनट के बाद चेहरा धो लें।

हेयर मास्क से बालों को मिलेंगे कई फायदे

बालों को मजबूत बनाने, रूखापन दूर करके बालों में चमक बढ़ाने, रूसी दूर करने और बालों की ग्रोथ बढ़ाने के लिए जामुन की गुठली का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन इसको सीधे तौर पर बालों पर इस्तेमाल नहीं करना है, बल्कि कुछ और चीजों की मदद से हेयर मास्क तैयार करना है। इसके लिए जामुन की चार-पाच गुठली लेकर सुखा लें और इनको बारीक पीसकर पाउडर बना लें। अगर ये मुमकिन नहीं हो तो किसी भी हर्बल शॉप से जामुन की गुठली या इसका पाउडर खरीदा जा सकता है। मास्क बनाने के लिए आप चार-पाच चम्मच मेहंदी लें। इसमें एक चम्मच दही और एक चम्मच शहद मिलाएं और एक चम्मच जामुन की गुठली का पाउडर मिला लें। इन सबको आपस में अच्छी तरह से मिक्स करके गाढ़ा पेस्ट तैयार कर लें। फिर इस पेस्ट को अपने स्कैल्प और बालों पर अच्छी तरह से अप्लाई करें।

--------------

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.