उचित मात्रा मे जल सेवन से ही किडनी स्टोन से बचाव : डॉ अभिषेक

फोटो-संजय-

-जागरण प्रश्न प्रहर में लोगों ने पूछे सवाल

-बीमारी से बचने के उपाय की मिली जानकारी जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी :

भागम-भाग की दुनिया में लोगों का जीवन स्तर बदल रहा है। लोग स्वयं के लिए समय नहीं दे पा रहे हैं। इससे लोग किडनी स्टोन, प्रोस्टेंट समेत किडनी संबंधी विभिन्न तरह की बीमारियों के चपेट में आ रहे हैं। काफी हद तक सावधानी बरतने से इस प्रकार की बीमारी से बच सकते हैं। वर्तमान परिदृश्य में किडनी स्टोन की समस्या लोगों में काफी बढ़ रही हैं। खासकर पार्वत्य क्षेत्र में ज्यादा ही लोग इस की बीमारी के चपेट में आ रहे हैं। यह बातें नेवटिया गेटवेल हेल्थकेयर सेंटर के यूरो सर्जन डॉ अभिषेक कुमार सिंह ने कही। यूरो संबंधी बीमारी के कारणों व इसके बचने के उपाय के बारे में लोगों जानकारी देने के लिए शुक्रवार को वह दैनिक जागरण के लोकप्रिय कार्यक्रम 'प्रश्न प्रहर' में शामिल हुए। सिलीगुड़ी व आस-पास के लोगों ने डॉ अभिषेक से फोन पर बात कर उनसे चिकित्सकीय परामर्श लिया।

डॉ अभिषेक से लोगों के बातचीत का अंश इस प्रकार है-

प्रश्न : क्या लेजर विधि से किडनी स्टोन का ऑपरेशन होता है।

-नवीन झा, अपर बागडोगरा

उत्तर : लेजर विधि से सिलीगुड़ी में किडनी स्टोन के ऑपरेशन की बेहतर सुविधा है। इसमें चीड़-फाड़ करने की जरूरत नहीं होती है।

प्रश्न : मेरी मां को शुगर है। यूरिनाल में इंफेक्शन की शिकायत बनी रहती है। इसका क्या उपचार है।

-शंभू दीक्षित

उत्तर : शुगर के मरीज का प्रतिरोधक क्षमता कमजोर हो जाता है। इसे रोकने के लिए ब्लड शुगर नियंत्रित रखना होगा। इससे इंफेक्शन की समस्या नहीं होगी। शुगर के इलाज लिए किसी अच्छे डायबिटीज डॉक्टर से संपर्क करें।

प्रश्न : यूटेरस से ब्लीडिंग होती है। इसका क्या उपचार है।

-पिंकू साहा

उत्तर : इसके इलाज के लिए किसी गाइनोकोलॉजि चिकित्सक से परामर्श करें।

प्रश्न : पिता जी को प्रोस्टेंट में समस्या है। क्या सिलीगुड़ी में इसका ऑपरेशन हो सकता है।

-दीपेन प्रधान, सिक्किम

उत्तर : सिलीगुड़ी में प्रोस्टेट के ऑपरेशन के लिए टीयूआरपी की बेहतर सुविधा है। यह नॉन इंवेसिव इंडोस्कोपी सर्जरी है, जो दुरबीन से हो जाती है। यह ओपन सर्जरी से बेहतर है।

प्रश्न : बैरिकोसिल का प्राब्लम है। क्या करें।

- रंजीत झा

उत्तर : बैरिकोसिल की वजह से अगर दर्द नहीं है तो ऑपरेशन की जरूरत नही है। अगर शुक्राण की कमी हो तो ऑपरेशन करा सकते हैं।

प्रश्न : यूरिन में इंफेक्शन की समस्या है। इसका क्या उपचार है।

-रंजू लाग्जेन

उत्तर : महिलाओं में यूरिन इंफेक्शन की समस्या ज्यादा होती है। हार्मोस की कमी से यूटीआई की संभावना ज्यादा होती है। अंग के सफाई पर विशेष ध्यान दें, तथा अच्छे यूरोलॉजिस्ट से इलाज कराएं।

प्रश्न : किडनी स्टोन की समस्या है। दाहिने तरफ 6.7 एमएम का स्टोन है।

-हरि दास

उत्तर : अगर किडनी में सूजन नही हैं तो बिना ऑपरेशन के भी दवा से निकल सकता है। पानी ज्यादा मात्रा लें। दर्द हो तो तुरंत यूरोलॉजिस्ट से मिले।

प्रश्न : मेरी उम्र 62 साल है। रात में चार-पांच बार पेशाब करने जाना पड़ता है। इसका क्या उपचार है।

-विमल साह

उत्तर : प्रोस्टेट की समस्या हो सकती है। इस उम्र में प्रोस्टेट की समस्या होती है। किसी यूरोलॉजिस्ट से अच्छे से इलाज कराएं।

प्रश्न : मेरी उम्र 59 साल है। प्रोस्टेट की समस्या है। इसके लिए क्या करें। कितने साइज का प्रोस्टेट सामान्य रहता है।

-सतीश वर्मा

उत्तर : प्रोस्टेट संबंधी समस्या के इलाज के लिए कुछ जांच जरूरी है। जांच कराने के बाद दवा लें। प्रोस्टेट के आकार व लक्षण से कोई संबंध नहीं है। छोटे आकार का प्रोस्टेट बड़ी समस्या हो सकती है। जबकि बड़े आकार का प्रोस्टेट सामान्य बना रहता है। किडनी स्टोन को लेकर न रखें भ्रांतियां

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी : किडनी स्टोन को लेकर कुछ लोगों में भ्रम है कि बीयर के सेवन से किडनी स्टोन निकल जाता है। हालांकि ऐसा नहीं है। इस बारे में जाने माने यूरो सर्जन डॉ अभिषेक कुमार सिंह का कहना है कि बीयर पीने से पेशाब की मात्रा बढ़ जाती है तथा कभी-कभी किडनी स्टोन निकल जाता है। हालांकि इसे किडनी स्टोन के इलाज के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए। क्योंकि बीयर में कैलशियम व आग्लेट की मात्रा ज्यादा होती है, जिससे शरीर में स्टोन और बनने की संभावना बनी भी रहती है। डॉ अभिषेक का कहना था कि देश में लगभग 15 प्रतिशत लोग किडनी स्टोन से पीड़ित हैं। खासकर पार्वत्य क्षेत्र में इसका प्रकोप ज्यादा देखने को मिलता है। ठंड की वजह से लोग पानी कम पीते हैं। पानी कम पीना इस बीमारी का प्रमुख कारक है। किडनी स्टोन होने के प्रमुख कारण

पानी कम पीना, पेशाब में रुकावट, पीला पेशाब होना, मोटापा, कुछ ऐसी दवाईयां जिससे सेवन से किडनी स्टोन की संभावना

बचने के उपाय-

. किडनी स्टोन से बचने के लिए दिन भर में चार-पांच लीटर स्वच्छ जल का सेवन करें। किडनी की क्या स्थिति है इसकी जानकारी के लिए किडनी फंक्शन टेस्ट कराते रहना चाहिए।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.