सिलीगुड़ी में भारी बारिश से मची तबाही, एक की मौत

सिलीगुड़ी, जागरण संवाददाता। सिलीगुड़ी समेत पूरे उत्तर बंगाल में रविवार की शाम से ही रात भर हुई भारी बारिश से सिलीगुड़ी के निचले इलाकों में जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। सालबाड़ी के पास एक अपार्टमेंट की दीवार गिर जाने से एक व्यक्ति की मौत हो गई तथा उसके परिजन घायल हो गए। गुगुबारी बाजार में वज्रपात होने से चार दुकानें जलकर खाक हो गईं।

जानकारी हो कि जलपाईगुड़ी और अलीपुरद्वार जिले के अधिकांश इलाकों में कल रात से ही बारिश हो रही है। रविवार रात से हो रही लगातार बारिश से जलपाईगुड़ी जिले के नागराकाटा स्थित बालुखोला नदी का जलस्तर बढ़ने से 31 सी नंबर राजमार्ग का कुछ हिस्सा बह गया। फलस्वरूप नागराकटा का डुवार्स के अधिकांश इलाकों से संपर्क टूट गया है। 

 

माना जा रहा है कि रविवार की रात सीजन की सबसे ज्यादा बारिश हुई। माटीगाड़ा, खोरीबारी व नक्सलबाड़ी प्रखंडों सहित सिलीगुड़ी नगर निगम क्षेत्र के शक्तिगढ़, घोघोमाली व आशीघर इलाके में जलजमाव से लोग परेशान हैं। बिन्नागुड़ी -बानरहाट रेल लाइन पर कुछ स्थानों पर पानी चढ़ जाने से इस रूट की पैसेंजर और इंटरसिटी ट्रेन का परिचालन ठप कर दिया गया।

घोघोमाली बाजार में बारिश का पानी दुकानों के अंदर तक घुस गया है। इस बारे में सिलीगुड़ी के उप मेयर रामभजन महतो ने बताया कि बारिश की स्थिति पर नजर रखी जा रही है। नगर निगम की टीम विभिन्न इलाकों में घूम रही रही है। सालुगाड़ा के निकट डिमडिमा बस्ती में भी जलजमाव की स्थिति उत्पन्न हो गई है। सड़क के नीचे से पत्थर खिसकने से रोड क्षतिग्रस्त हो गई है।

सालबाड़ी के निकट एक अपार्टमेंट की दीवार गिर जाने से उसमें दबकर नारायण मंडल (40) की मौत हो गई। उनकी पत्‍‌नी अंजना मंडल व दो बच्चे घायल हुए हैं। सिलीगुड़ी महकमा शासक सिराज दानेश्यर ने बताया कि महकमे के विभिन्न ग्राम पंचायतों में जलजमाव होने की खबर मिल रही है।

हालाकि लोगों को कहीं शिफ्ट किया जाए, ऐसी स्थिति अभी नहीं है। बारिश की स्थिति पर महकमा प्रशासन लगातार नजर बनाए हुए हैं। उन्होंने कहा कि कि सुबह आठ बजे के लगभग महानंदा नदी का जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर हो गया था। हालाकि थोड़ी देर बाद ही जलस्तर घट गया। बारिश सोमवार को भी रुक-रुक कर जारी है।

रेल लाइन पर पानी से कुछ ट्रेनों का संचालन रद, कुछ के मार्ग बदले

रविवार रात से लगातार हो रही भारी बारिश के कारण एनएफ रेलवे के तिनसुकिया डिवीजन में कुछ स्थानों पर रेलवे लाइन पर पानी हो जाने से कुछ ट्रेनों का संचालन रद किया गया है। कुछ ट्रेनों को मार्ग बदलकर चलाया जा रहा है। एनएफ रेलवे के मालीगांव गुवाहाटी के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी पीजे शर्मा ने बताया है कि कलकलीघाट और बराईग्राम के बीच मोरनहाट तथा नाकाचारी और मरियानी के बीच ट्रैक पर पानी भर जाने से रेल आवागमन प्रभावित हुआ है।

शर्मा ने बताया है कि अलीपुरद्वार-सिलीगुड़ी अप पैसेंजर, अलीपुरद्वार-सिलीगुड़ी अप इंटरसिटी एक्सप्रेस, अलीपुरद्वार-धुबड़ी अप इंटरसिटी एक्सप्रेस, अलीपुरद्वार-बानरहाट पैसेंजर का परिचालन रद कर दिया गया है। महानंदा एक्सप्रेस डाउन का मार्ग बदलकर वाया न्यू कूचबिहार-रानीनगर जलपाईगुड़ी से चलाया जा रहा है। इस दौरान न्यू कूचबिहार, फरक्का, धुपगुड़ी, न्यू मायांगगुड़ी और जलपाईगुड़ी में दो-दो मिनट का स्टॉपेज दिया गया है।

कंचनकन्या एक्सप्रेस अप को भी इसी रूट से उपरोक्त स्टेशनों पर दो-दो मिनट का स्टॉपेज देकर चलाया जा रहा है। कैपिटल एक्सप्रेस अप का मार्ग बदलकर न्यू जलपाईगुड़ी-रानीनगर, जलपाईगु़ड़ी, न्यू कूचबिहार, अलीपुरद्वार से चलाया जा रहा है। इस दौरान जलपाईगुड़ी रोड, न्यू मायांगुड़ी, धुपगुड़ी, फरक्का तथा न्यू कूचबिहार में दो-दो मिनट का स्टॉपेज दिया गया है। रांची एक्सप्रेस अप का मार्ग बदलकर न्यू जलपाईगुड़ी-रानीनंगर, जलपाईगुड़ी-न्यू कूचबिहार, सामुकतला रोड से चलाया जा रहा है। इस दौरान जलपाईगुड़ी रोड, न्यू मायांगुड़ी, धुपगुड़ी, फरक्का तथा न्यू कूचबिहार में दो-दो मिनट का स्टॉपेज दिया गया है।

 जल जमाव से परेशान लोगों ने किया प्रदर्शन 

 जलजमाव से परेशान अंबेडकर कॉलोनी के लोगों ने चतुर्थ महानंदा ब्रिज को अवरोध करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों को माटीगाड़ा पुलिस पहुंचकर स्थिति को सामान्य कराया। यहां लोगों के घरों में पानी प्रवेश कर गया है। सोने के कमरे समेत रसोई घर में भी पानी प्रवेश कर गया है। पत्ती कॉलोनी समेत माटीगाड़ा के निचले इलाके में लोगों का पानी में घर से बाहर निकलना मुश्किल हो रहा है।

 ठनका गिरने से चार दुकानें स्वाहा

शहर के वार्ड 37 स्थित घोधुमाली में सोमवार की भोर अचानक आकाशीय बिजली ठनका गिरने से चार दुकानें जलकर खाक हो गयी। संयोग रहा कि इसके चपेट में कोई व्यक्ति नहीं आया। बारिश होने के कारण आग भी आगे नहीं फैला। वार्ड पार्षद सह पांच नंबर बोरो चेयरमैन रंजनशील शर्मा ने बताया कि सरकार और नगर निगम से जो भी सहायता बन पाएगा पीड़ितों को दिलाया जाएगा। सुबह से ही वहां ठनका से जले दुकानों को देखने के लिए लोगों की भीड़ लगी हुई है। दुकानदार सुबह से ही पूरी तरह नष्ट हो चुके दुकान की सामानों को एकत्र करने में लगे है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.