महारैली में उमड़े वामपंथी कार्यकर्ता, नेताओं के चेहरे खिले

- सिलीगुड़ी नगर निगम व महकमा परिषद चुनाव कराए जाने व किसानों को मिली जीत को लेकर थी रैली

JagranTue, 07 Dec 2021 10:15 PM (IST)
महारैली में उमड़े वामपंथी कार्यकर्ता, नेताओं के चेहरे खिले

- सिलीगुड़ी नगर निगम व महकमा परिषद चुनाव कराए जाने व किसानों को मिली जीत को लेकर थी रैली

-वरिष्ठ नेता हन्नान मोल्ला व अशोक भट्टाचार्य ने दिया नेतृत्व

जागरण संवाददाता, सिलीगुड़ी: महारैली के बहाने ही सही काफी दिनों के बाद वाममोर्चा की रैली में लोगों की भारी संख्या में उपस्थिति दिखी। कार्यकर्ताओं की उपस्थिति से नेतागण काफी खुश नजर आए। कार्यकर्ताओं की भीड़ से उत्साहित पूर्व मेयर अशोक भट्टाचार्य ने व्यंगात्मक अंदाज में कहा कि जिन किसी मीडिया को लगता है कि वामपंथी खत्म हो गए वे इस रैली को नजर देख लें। सिलीगुड़ी नगर निगम व सिलीगुड़ी महकमा परिषद का चुनाव जल्द से जल्द कराए जाने व बढ़ती महंगाई को काबू में करने तथा कृषि कानून वापसी मामले में किसानों की जीत की खुशी में दार्जिलिंग जिला वाममोर्चा की ओर से मंगलवार को स्थानीय बाघाजतिन पार्क से एक महारैली निकाली गई। महारैली कोर्ट मोड़, हिलकार्ट रोड से गुजरते हुए माकपा पार्टी कार्यालय अनिल विश्वास भवन के समक्ष आकर समाप्त हो गई। महारैली से पहले देश के राजनीतिक हालात व किसानों की वर्तमान स्थिति को दर्शाते हुए पथनाटक का मंचन किया गया। बाघाजतिन पार्क के समक्ष कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य व ऑल इंडिया किसान सभा के नेता हन्नान मोल्ला ने कहा कि कृषि कानून पर किसानों की जीत की खुशी का जश्न मनना ही चाहिए। उन्होंने कहा कि किसानों ने केंद्र सरकार को झुकाकर यह संदेश दे दिया है कि किसान कमजोर नहीं है। किसानों का रास्ता रोकने के लिए लगातार चुनौतियां खड़ी की गई, लेकिन किसान झुके नहीं बल्कि और अधिक निडरता से वे अपने लक्ष्य की ओर से बढ़ते रहे और उन्हें जीत मिली। सरकार को कृषि कानून वापस लेना पड़ा। एमएसपी की मांग को लेकर किसान आज भी डटे हुए हैं। पंजाब व हरियाणा समेत देश के समस्त किसानों ने लगभग 18 महीनों तक ठंड, बारिश व धूप में डटकर आदोलन किया है। उनके आदोलन के चलते ही केंद्र सरकार को कृषि कानून को वापस लेने के लिए विवश होना पड़ा है। पूर्व मंत्री व मेयर अशोक भट्टाचार्य ने अपने संबोधन में कहा कि सिलीगुड़ी नगर निगम व महकमा परिषद का चुनाव जल्द से जल्द कराया जाए, ताकि जनता को अपने काम कराने में सहुलियत हो। प्रशासकीय बोर्ड का 6 महीने का कार्यकाल समाप्त होने के बावजूद भी नगर निगम में शासन चलाया जा रहा है। देश में लगातार बढ़ती महंगाई को काबू में करने की मांग भी की गई। माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य व ऑल इंडिया किसान सभा के नेता हन्नान मोल्ला, पूर्व मंत्री व पूर्व मेयर अशोक भट्टाचार्य के अलावा सीटू नेता समन पाठक, माकपा जिला सचिव जिवेश सरकार, दिलीप सिंह व अन्य नेतागण महारैली में शामिल हुए।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.